लोकसभा में गृह राज्यमंत्री अहीर ने बताया कि जम्मू कश्मीर मे बैठे अलगाववादियों को घाटी में अशांति फैलाने के लिए पाकिस्तान की ओर से समय समय पर दिशा-निर्देश और मोटी रकम मिलती है। जिसके बाद उसी पैसे को लेकर वैली की अमन चैन को बर्बाद करने का काम करते हैं। गृह राज्यमंत्री अहीर ने कहा कि ऐसे तत्वों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा रही है।Also Read - Weapon-dropping case: हथियार उठाने आए आरोपी इरफान भट ने माना वह लश्कर से जुड़ा है

Also Read - J&K: उरी में LoC के पास घुसपैठ की कोशिश नाकाम, सेना ने तीन आतंकियों को मार गिराया; हथियारों का जखीरा बरामद

निचले सदन में एक सवाल के जवाब में अहीर ने बताया, ‘पड़ोसी देश द्वारा प्रायोजित आतंकी तत्वों और कश्मीर के अलगाववादियों के बीच सांठगांठ के सुराग मिले हैं। इस तरह के तत्वों के खिलाफ कानून के मुताबिक आवश्यक कार्रवाई की जा रही है। Also Read - LoC पार कर आए युवक को मिठाई और कपड़े के साथ वापस भेजा, पाकिस्‍तानी अधिकारियों को सौंपा

बता दें की खुफिया सूचना के मुताबिक, अप्रैल में हिजबुल के आतंकी कमांडर के एनकाउंटर में मारे जाने के बाद वहां पर हिंसा फैलाने में वहां के स्थानीय अलगाववादी नेताओं की प्रमुख भूमिका रही है। इस तरह की बात सामने के आने के बाद से भारतीय जांच एजेंसियों को सतर्क कर दिया गया है और अब सरकार इस मसले को गंभीरता से लेते हुए कोई अहम फैसला ले सकती है। यह भी पढ़ें: राजस्थान: जन्मदिन से एक दिन पहले शहीद हो गए प्रभु सिंह, गांव में पसरा मातम

आतंकियों के पास मिले थे 2000 के नए नोट

बता दें जम्मू कश्मीर में सेना मुठभेड़ में 2 आतंकियों को मार गिराया था लेकिन उसके बाद जब उनकी तलाशी ली गई तो उनके पास से 2000 के नए नोट मिले हैं। अब जहां देश के अंदर नए नोट लोगो में पूरी तरह नही पहुंचा है तो आतंकियों के पास कैसे पहुँच गया। इस घटना के बाद से ही इस मामले की जाँच बड़ी ही गंभीरता से की जा रही है साथ ही यह भी कयास लगाया जा रहा है की देश के अंदर ही कुछ लोग आतंकियों तक नए नोट को पहुंचाने का काम कर रहें है।