नई दिल्ली: वर्ष 1931 में भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान क्रांतिकारी भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को 23 मार्च को ही फांसी दी गई थी. आज शहीदी दिवस पर देशभर में उन्‍हें यादकर श्रद्धांजलि दी जा रही है. शहीदी दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को याद किया है. पीएम मोदी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक वीडियो भी शेयर किया है, साथ ही ट्वीट में लिखा है कि आजादी के अमर सेनानी वीर भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को शहीद दिवस पर शत-शत नमन. भारत माता के इन पराक्रमी सपूतों के त्याग, संघर्ष और आदर्श की कहानी इस देश को हमेशा प्रेरित करती रहेगी. जय हिंद!

 

क्‍यों महत्‍वपूर्ण है आज का दिन
देश और दुनिया के इतिहास में यूं तो कई महत्वपूर्ण घटनाएं 23 मार्च की तारीख के नाम दर्ज हैं….लेकिन भगत सिंह और उनके साथी राजगुरु और सुखदेव को फांसी दिया जाना भारत के इतिहास में दर्ज सबसे बड़ी एवं महत्वपूर्ण घटनाओं में से एक है. वर्ष 1931 में भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान क्रांतिकारी भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को 23 मार्च को ही फांसी दी गई थी.

Lok Sabha Election 2019: 28 को मेरठ में PM मोदी की बड़ी रैली, 24 को आगरा में होंगे अमित शाह

इतिहास में आज का दिन
वहीं अंतरराष्ट्रीय स्तर की बात करें तो 1956 को जहां पाकिस्तान पहला इस्लामकि गणतंत्र देश बना, वहीं 1996 में ताइवान में पहली बार प्रत्यक्ष राष्ट्रपति चुनाव हुए. देश दुनिया के इतिहास में 23 मार्च की तारीख पर दर्ज अन्य महत्वपूर्ण घटनाओं का ब्यौरा इस प्रकार है:-
1880 : भारतीय स्वतंत्रता कार्यकर्ता बसंती देवी का जन्म.
1910: स्वतन्त्रता संग्राम के सेनानी, प्रखर चिन्तक एवं समाजवादी राजनेता डॉ राममनोहर लोहिया का जन्म हुआ.
1931: भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के क्रांतिकारी भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव को अंग्रेजों ने फांसी दी.
1956 : पाकिस्तान दुनिया का पहला इस्लामिक गणतंत्र देश बना.
1996: ताइवान में पहला प्रत्यक्ष राष्ट्रपति चुनाव हुआ, जिसमें ली तेंग हुई राष्ट्रपति बने.