अहमदाबाद: भाजपा में शामिल होने के तीन महीने बाद ही कांग्रेस के पूर्व विधायक महेंद्र सिंह वाघेला ने भाजपा का दामन छोड़ दिया है. वह गुजरात में कांग्रेस के पूर्व दिग्गज नेता शंकर सिंह वाघेला के बेटे हैं. Also Read - स्मृति ईरानी ने कहा- कांग्रेस देश की चुनौतियों से फायदा उठाने की कोशिश में है, वो यही कर सकती है

Also Read - भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा कोविड-19 के लक्षणों के बाद अस्पताल में भर्ती

महेंद्र सिंह ने पार्टी से अपना इस्तीफा गुजरात के भाजपा प्रमुख जीतू वघानी के पास गुरुवार को भेजा. अचानक भाजपा छोड़ने के अपने फैसले के बारे में उन्होंने ज्यादा जानकारी नहीं दी. उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि वह ‘निजी कारणों’ से पार्टी छोड़ रहे हैं. महेंद्र सिंह पहले उत्तरी गुजरात के बायद सीट से कांग्रेस के विधायक थे लेकिन उन्होंने पिछले साल विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस छोड़ दिया और इस साल जुलाई में भाजपा में शामिल हो गए. उन्होंने 2017 के चुनाव में हिस्सा नहीं लिया था. Also Read - लॉकडाउन को फेल बताने पर राहुल गांधी पर बीजेपी का पलटवार: झूठ नहीं फैलाएं, दुनिया के आंकड़े देखें

क्या 90 के बाद पैदा होने वालों को जो पता चला वैसे ही थे एनडी तिवारी, या नोएडा के ‘जनक’ एक ‘पीएम इन वेटिंग’ विकास पुरुष!

महेंद्र सिंह के पिता शंकर सिंह वाघेला ने कुछ दिनों पहले यह इच्छा जताई थी कि वह देश में भाजपा के खिलाफ 2019 में लोकसभा चुनाव लड़ने वाले क्षेत्रीय पार्टियों के समन्वयक की भूमिना निभाना चाहते हैं. पिछले महीने शंकर सिंह ने दावा किया था कि उनके समर्थकों ने उनसे अपील की है कि वह 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा के खिलाफ लड़ने वाली पार्टियों को एकबद्ध करें.

राज्‍यपाल मलिक ने कहा, जम्‍मू कश्‍मीर में एनएसजी के ब्‍लैक कैट कमांडो को तैनात करने की कोई योजना नहीं

पिछले साल अगस्त में शंकर सिंह अपने बेटे महेंद्र सिंह सहित सात अन्य कांग्रेस विधायकों के साथ राज्य सभा चुनाव में भाजपा के पक्ष में वोटिंग की थी और इसके बाद पार्टी से इस्तीफा दे दिया था. क्रॉस वोटिंग के बाद भी कांग्रेस के उम्मीदवार अहमद पटेल को जीत मिली थी.