नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट में अगले चीफ जस्टिस नियुक्त किए जाने की प्रक्रिया शुरू हो गई है. गौरतलब है कि मौजूदा मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई अगले महीने की 17 तारीख को रिटायर हो रहे हैं, ऐसे में अब उन्होंने केंद्र सरकार को अगले चीफ जस्टिस का नाम सुझाया है. प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई ने शुक्रवार को केंद्र को एक पत्र भेजकर उच्चतम न्यायालय में अपने बाद वरिष्ठतम न्यायाधीश एस ए बोबडे (अरविंद शरद बोबडे) को अपना उत्तराधिकारी बनाने की सिफारिश की. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि न्यायमूर्ति गोगोई ने विधि एवं न्याय मंत्रालय को पत्र लिखकर न्यायमूर्ति बोबडे को अगला प्रधान न्यायाधीश बनाने की सिफारिश की है.

न्यायमूर्ति गोगोई ने तीन अक्टूबर 2018 को देश के 46वें प्रधान न्यायाधीश के तौर पर शपथ ग्रहण की थी. वह 17 नवंबर को सेवानिवृत्त होंगे. आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि प्रधान न्यायाधीश ने परम्परा के अनुसार अपने उत्तराधिकारी के रूप में अपने बाद अगले वरिष्ठतम न्यायाधीश के नाम की सिफारिश की है.

गौरतलब है कि प्रधान न्यायधीश राम मंदिर की सुनवाई कर चुके हैं. अयोध्या मामले में सुनवाई कर रहे पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ में भी जस्टिस बोबडे शामिल हैं. बता दें कि एस ए बोबडे का जन्म 24 अप्रैल 1956 को महाराष्ट्र के नागपुर में हुआ था. इन्होंने नागपुर विश्वविद्यालय से बीए और एलएलबी की डिग्री ली. 1978 में जस्टिस बोबडे बार काउंसिल ऑफ महाराष्ट्र में शामिल हुए. साल 1998 में बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर बेंच में लॉ की प्रेक्टिस के बाद वे वरिष्ठ वकील बने. साल 2000 में बॉम्बे हाईकोर्ट में बतौर एडिशनल जज पदभार ग्रहण किया. इसके बाद वो मध्यप्रदेश हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस बने.

साल 2013 में सुप्रीम कोर्ट में बतौर जज कमान संभाली. जस्टिस एस. ए. बोबड़े 23 अप्रैल, 2021 को रिटायर होंगे. आशंका जताई जा रही है कि 18 नवंबर को जस्टिस बोबडे बतौर चीफ जस्टिस शपथ ले सकते हैं, मौजूदा CJI की सिफारिश को केंद्र से मंजूरी मिलने के बाद प्रक्रिया शुरू होगी.

(इनपुट-भाषा)