NCP-chief-Sharad-Pawar-during-an-election-campaign-in-Mumbai-07 Also Read - शरद पवार ने गवर्नर भगत सिंह कोश्यारी पर साधा निशाना, बोले-कोई आत्मसम्मान वाला व्यक्ति होता तो पद पर नहीं होता

रायगढ़:  राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रमुख शरद पवार ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की सरकार की स्थिरता पर संदेह जताते हुए कहा कि राज्य में किसी भी समय मध्यावधि चुनाव हो सकते हैं। पवार ने अपनी पार्टी को निर्देश दिया कि मध्यावधि चुनाव की तैयारियां तत्काल शुरू कर दी जाएं, क्योंकि राज्य में भाजपा सरकार ज्यादा समय तक नहीं चल पाएगी। Also Read - शरद पवार ने PM मोदी से कहा- राज्यपाल ने CM को भेजे पत्र में असंयमित भाषा का इस्‍तेमाल क‍िया

प्राचीन समुद्र तट पर स्थित अलीबाग रिसॉर्ट में पार्टी के दो दिवसीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए पवार ने कहा, “अगर भाजपा और शिवसेना एकसाथ आए होते तो सरकार स्थिरत हो सकती थी। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। अगर अगले छह माह तक यही स्थिति बरकरार रहती है तो यह नए विधानसभा चुनाव का समय होगा।” Also Read - नोटिस मिलने पर NCP चीफ शरद पवार बोले- आईटी विभाग कुछ लोगों से प्यार करता है

पवार की इस टिप्पणी के बाद शिवसेना ने त्वरित प्रतिक्रिया में कहा है कि वह जरूरत पड़ने पर राज्य में भाजपा सरकार को समर्थन देने के लिए तैयार है।

विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष, शिवसेना के एकनाथ शिंदे और पार्टी प्रवक्ता संजय राउत ने स्पष्ट किया है कि राजनीतिक संकट के मामले में शिवसेना फडणवीस सरकार को समर्थन देने से नहीं हिचकेगी।

दोनों नेताओं ने कहा कि इस मामले में अंतिम फैसला पार्टी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे करेंगे।

राज्य में किसी भी समय मध्यावधि चुनाव होने की संभावना जताते हुए पवार ने कहा कि राकांपा फडणवीस द्वारा पेश किए गए विश्वास मत के दौरान राकांपा तटस्थ रही। उन्होंने कहा कि राज्य में राजनैतिक स्थिरता की उम्मीद बहुत कम है।

पवार ने कहा, “हम सरकार की स्थिरता को लेकर आशान्वित नहीं हैं।”

पवार ने राकांपा नेताओं को विधानसभा क्षेत्रों पर ध्यान देने को कहा।

उन्होंने कहा, “राकांपा ने 41 सीटें जीती और 56 पर दूसरे स्थान पर रही तथा 51 सीटों पर तीसरे पायदान पर रही। इसका मतलब है कि हममें 148 सीटें जीतने की क्षमता है।”