नई दिल्‍ली: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ आज विभिन्न दलों के नेताओं की वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बैठक हुई, जिसमे एनसीपी के नेता शरद पवार ने कोरोना वायरस के संक्रमण से उपजी स्थितियों पर चर्चा के बीच निजामुद्दीन मरकज में तबलीगी जमात के कार्यक्रम के मुद्दे पर पीएम से कहा कि कि संक्रमण फैलने के लिए किसी खास समुदाय को दोष देना ठीक नहीं. Also Read - क्या अंडरवर्ल्ड सरगना दाऊद इब्राहिम की कोरोना से हुई मौत?, सोशल मीडिया में अटकलों का बाजार गर्म

शरद पवार ने यह मुद्दा तब उठाया है, जब देश के कई राज्‍यों में तबलीगी जमात में शामिल हुए लोगों से संक्रमण के बड़ी संख्‍या में मामले सामने आए हैं. Also Read - राजस्थान में कोरोना वायरस से संक्रमितों का आंकड़ा 10128, अब तक मृतक संख्‍या 219

पिछले माह निजामुद्दीन मरकज में तबलीगी जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए लोगों के कारण संक्रमण तेजी से फैलने के आरोपों पर पवार ने आगाह किया कि संक्रमण फैलने के लिए किसी खास समुदाय को दोष देना ठीक नहीं. उन्होंने कहा कि अब पूरा ध्यान बीमारी को फैलने से रोकने पर होना चाहिए. Also Read - अगले हफ्ते से खुलेंगे तिरुमला मंदिर और सबरीमला मंदिर के पट, शर्तों के साथ मिलेगा प्रवेश

पवार ने यह भी उन ताकतों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए, जो मीडिया और सोशल मीडिया के माध्यम से स्थिति को सांप्रदायिक रंग देने और एक समुदाय को दूसरे समुदाय के खिलाफ खड़ा करने की कोशिश कर रहे हैं.

एनसीपी नेता पवार ने बुधवार को पीएम के साथ हुई वीडियो कॉन्‍फ्रेंस में कहा कि कोरोना वायरस महामारी से पूरी तरह पार पाने की लड़ाई लंबी चलेगी, इसका भारतीय अर्थव्यवस्था पर गहरा असर पड़ेगा, इसलिए केंद्र को देश के आर्थिक हालात सुधारने के उपायों पर विचार करना शुरू कर देना चाहिए.

पीएम नरेन्द्र मोदी के साथ आज विभिन्न दलों के नेताओं की वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बैठक हुई, जिसमें पवार में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए देश भर में 21 दिन के बंद के बाद पाबंदियों को कुछ खास क्षेत्रों से हटाने का सुझाव दिया. बता दें कि मोदी ने विभिन्न दलों के 18 नेताओं से बातचीत की, जिनमें से अधिकतर विपक्षी दलों से थे.

पवार के फेसबुक पोस्ट के मुताबिक, उन्होंने मोदी से कहा, ”कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई लंबी चलेगी. इसका वैश्विक और भारतीय अर्थव्यवस्था पर असर पड़ेगा. उचित कदम उठाने की जरूरत है. कुल मिला कर केंद्र को अभी से अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के कदमों पर विचार करना शुरू कर देना चाहिए.

एनसीपी नेता ने ये सुझाव भी दिए
– राज्यों के राजस्व बढ़ाने पर ध्यान दे केंद्र सरका
– केंद्र राज्य सरकारों को जीएसटी मुआवजा दे
– सरकार गैर नियोजित खर्चों में कमी करे
– सरकार से नए संसद भवन के निर्माण के काम को आगे बढ़ाए
– कोरोना वायरस से उद्योग और किसान बेहद प्रभावित हुए हैं इस लिए पीएम इन क्षेत्रों को राहत सुनिश्चित करें