नई दिल्ली: भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने सर्बिया में अंतर संसदीय संघ (आईपीयू) की बैठक में कश्मीर मुद्दा उठाने के लिए बुधवार को पाकिस्तान पर प्रहार करते हुए कहा कि यह विडंबना है कि जो देश जम्मू कश्मीर में अनगिनत आतंकवादी हमलों के लिए जिम्मेदार है, वह खुद के कश्मीर का चैंपियन होने का स्वांग रच रहा है. यह देश इस तरह के दुर्भावनापूर्ण प्रयास कर रहा है. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला की अध्यक्षता वाले भारतीय प्रतिनिधिमंडल के सदस्य कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने कहा कि भारत की संसद इस तरह के दुर्भावनापूर्ण प्रयासों को सफल नहीं होने देगी. थरूर ने पाकिस्तान की सीनेट के अध्यक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्होंने भारत के आंतरिक मामले का संदर्भ ”अनावश्यक रूप से सभा के राजनीतिकरण के लिए किया.”

लोकसभा सचिवालय ने एक बयान में कहा, ”भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने दो विभिन्न सत्रों में जम्मू कश्मीर के बारे में पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल के आधारहीन आरोपों का खंडन किया है.” सचिवालय ने थरूर के संबोधन वाला वीडियो भी साझा किया.

थरूर ने कहा, ”मैं भारत में विपक्षी पार्टी से संसद का सदस्य हूं और हम अपनी संसद का कश्मीर और अन्य मुद्दों पर हमारी सरकार के साथ चर्चा और बहस करने के लिए उपयोग करते रहेंगे. हम अपनी अपनी लड़ाई लोकतांत्रिक तरीके से लड़ेंगे और इसमे सीमा पार से किसी भी हस्तक्षेप की जरूरत नहीं है.” थरूर ने कहा, जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है.

थरूर ने कहा कि यह विडंबना है कि जो देश जम्मू कश्मीर में अनगिनत आतंकवादी हमलों के लिए जिम्मेदार है वह खुद के कश्मीर का चैंपियन होने का स्वांग रच रहा है. आईपीयू की 141वीं बैठक सर्बिया के बेलग्रेड में 13 से 17 अक्टूबर तक आयोजित की जा रही है.

पूर्व विदेश राज्य मंत्री ने कहा, “जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है. जम्मू कश्मीर की स्थिति में ऐसा कुछ भी नहीं जो किसी भी रूप में उनके देश में रहने और काम करने की स्थिति को प्रभावित करे, इस्लामाबाद की तो बात ही छोड़िए. थरूर ने कहा, भारत के आंतरिक मामले उसकी सीमाओं से बाहर नहीं जाते और पड़ोसियों को प्रभावित नहीं करते.

तिरुवनंतपुरम के सांसद ने कहा, ”इस परिस्थिति में यह दुर्भाग्यपूर्ण और हैरान करने वाला है कि वह यह उम्मीद करते हैं कि यह गरिमापूर्ण सभा दिसंबर 2019 में एपीए के पूर्ण सत्र की मेजबानी करने की अक्षमता या अनिच्छा के लिये इस तरह के बहाने को स्वीकार करेगी.”

पाकिस्तान ने कई बहुपक्षीय बैठकों के दौरान कश्मीर का मुद्दा उठाने की कोशिश की लेकिन भारत ने उसके प्रयासों को नाकाम कर दिया. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला के नेतृत्व में भारतीय संसदीय प्रतिनिधिमंडल 13 से 17 अक्टूबर को सर्बिया में होने वाली अंतर संसदीय संघ (आईपीयू) की 141वीं सभा में भाग लेने के लिए बेल्ग्रेड में है. सचिवालय ने कहा कि भारतीय संसदीय प्रतिनिधिमंडल में थरूर, कनिमोई, वानसुक सीयम, राम कुमार वर्मा और संबित पात्रा समेत कई दलों के सांसद शामिल हैं.