नई दिल्ली: कांग्रेस ने अपने नेता शशि थरूर के उस बयान को खारिज कर दिया जिसमें उन्होंने कथित तौर पर कहा है कि वर्ष 2019 में नरेंद्र मोदी के फिर से चुनाव जीतने पर भारत ‘हिंदू पाकिस्तान’ बन जाएगा. पार्टी ने यह भी कहा कि भारत का लोकतंत्र इतना मजबूत है कि यह देश कभी पाकिस्तान नहीं बन सकता. वहीं, थरूर ने अपने बयान के लिए माफी मांगने से इंकार किया है. उन्होंने बीजेपी को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि पार्टी हिंदू राष्ट्र के विचार में विश्वास नहीं रखती.Also Read - पंजाब में BSF का अधिकार क्षेत्र बढ़ाने से सीएम नाराज, पीएम मोदी को पत्र लिखकर कहा- इस 'काले कानून' पर विचार करें

Also Read - त्रिपुरा में तृणमूल सांसद सुष्मिता देव और अन्य नेताओं पर हमला, कीमती सामान लूटा; भाजपा पर आरोप

कांग्रेस नेता जयवीर शेरगिल ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘भारत का लोकतंत्र इतना मजबूत है कि सरकारें आती जाती रहें, लेकिन यह देश कभी पाकिस्तान नहीं बन सकता. भारत एक बहुभाषी और बहुधर्मी देश है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं इस मंच से कांग्रेस के हर नेता और कार्यकर्ता से आग्रह करूंगा कि वे इस बात का ध्यान रखें कि किस तरह के बयान देने हैं.’’ शेरगिल ने कहा, ‘‘चाहे भाजपा अपने नेताओं के विवादित बयानों पर चुप्पी साध ले, चाहे भाजपा आईएसआई को भारत बुलाए, चाहे भाजपा जम्मू-कश्मीर के चुनाव के लिए पाकिस्तान का शुक्रिया अदा करे, चाहे भाजपा के मंत्री अपराधियों को हार पहनाकर इस देश के संविधान को हरा दें, लेकिन हमें बोलने में सावधानी बरतनी चाहिए.’’ Also Read - Funny Video: प्रदर्शन कर रहे थे विपक्षी कार्यकर्ता, तभी एक ने बोल दिया कुछ ऐसा सुनकर हंसी नहीं रुकेगी | देखिए मजेदार वीडियो

शशि थरूर ने कहा- 2019 में बीजेपी फिर जीती तो देश ‘हिंदू पाकिस्तान’ बन जाएगा

इधर, थरूर ने माफी मांगने की जरूरत से इंकार करते हुए कहा है कि उन्होंने जो कुछ भी कहा है, वह बीजेपी-आरएसएस की विचारधारा है. पार्टी हिंदू राष्ट्र के विचार में विश्वास नहीं रखती और यह बात उसे सार्वजनिक रूप से स्वीकार कर लेनी चाहिए.

कांग्रेस नेता बोले- मोदी का ‘सपना’ बहुत महंगा, सत्ता में आए तो बंद करेंगे बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट

खबरों के मुताबिक, थरूर ने तिरुवनंतपुरम में कहा कि भारतीय जनता पार्टी अगर 2019 में जीतती है, तो वह नया संविधान लिखेगी, जिससे यह देश पाकिस्तान बनने की राह पर अग्रसर होगा जहां अल्पसंख्यकों के अधिकारों का कोई सम्मान नहीं किया जाता है.