नई दिल्ली। मेजर आदित्य कुमार और राइफलमैन औरंगजेब समेत सशस्त्र बलों के 20 कर्मियों को शौर्य चक्र से सम्मानित किया जाएगा. कुमार उस वक्त विवादों में आ गए थे जब जनवरी में उनकी यूनिट ने दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले में पथराव कर रही भीड़ पर गोली चला दी थी और उसमें तीन लोग मारे गये थे. Also Read - Encounter In J&K: श्रीनगर में एनकाउंटर में अल-बद्र के 2 आतंकवादी ढेर

Also Read - Indian Army Recruitment 2021: भारतीय सेना में ऑफिसर बनने का गोल्डन चांस, आवेदन करने की कल है अंतिम डेट, जल्द करें अप्लाई

औरंगजेब की हुई थी हत्या Also Read - Indian Army Recruitment Rally 2021: 8वीं, 12वीं पास भारतीय सेना में बिना परीक्षा के पा सकते हैं नौकरी, जल्द करें आवेदन, मिलेगी अच्छी सैलरी

जम्मू कश्मीर के रहने वाले औरंगजेब को भी शौर्य पुरस्कार दिया जाएगा. आतंकवादियों ने जून महीने में पुलवामा से अगवा करके उनकी बर्बरता से हत्या कर दी थी. उस वक्त वह ईद मनाने के लिए छुट्टी पर अपने घर जा रहे थे. 44 राष्ट्रीय राइफल्स से ताल्लुक रखने वाले औरंगजेब का गोलियों से छलनी शव पुलवामा में कलामपुरा से करीब 10 किलोमीटर दूर मिला था.

शोपियां मामलाः FIR रद्द कराने मेजर के पिता पहुंचे सुप्रीम कोर्ट, कहा- जवानों का मनोबल न टूटने दें

स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर शौर्य पुरस्कार विजेताओं की आधिकारिक सूची रक्षा मंत्रालय ने जारी की. मेजर कुमार की अगुवाई वाली यूनिट ने 27 जनवरी को शोपियां में पथराव कर रही भीड़ पर गोली चला दी थी, जिसमें तीन व्यक्तियों की मौत हो गई थी. इसके बाद जम्मू कश्मीर पुलिस ने घटना में शामिल सैन्य कर्मियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी.

मेजर आदित्य के खिलाफ हुई था एफआईआर

फरवरी में मेजर कुमार के पिता ने उच्चतम न्यायालय का रूख करके प्राथमिकी रद्द करने की मांग की थी. मामले की सुनवाई के दौरान केंद्र सरकार ने कहा कि राज्य में सशस्त्र बल विशेषाधिकार कानून (आफस्पा) लागू होने की स्थिति में राज्य सरकार किसी सेवारत सैन्यकर्मी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज नहीं कर सकती.