नागपुर. यहां के एक पुलिस स्टेशन में उस समय अजीबो-गरीब स्थिति उत्पन्न हो गई, जब एक युवक वहां अपने दिल की चोरी का एफआईआर दर्ज कराने पहुंच गया. थाने पर पहुंचकर उसने थानेदार को एप्लिकेशन दिया कि उसका दिल एक लड़की ने चोरी कर लिया है और कृपया वह इसका शिकायत दर्ज करे और लड़की से उसका दिल वापस दिलवाएं. उसकी इस शिकायत पर थाने में उहोपोह की स्थिति बन गई.

पुलिस को लगभग प्रतिदिन किसी न किसी चीज के खोने की शिकायत मिलती है. लेकिन पहली बार इस तरह का मामला आने पर थाना प्रभारी असमंजस की स्थिति में पड़ गए. इसके बाद उन्होंने इस मामले में अपने सिनियर अफसरों से बात की.

अधिकारियों ने काफी देर तक चर्चा की
अधिकारियों ने काफी देर तक इस पर चर्चा की और अंत में इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि भारती कानून में किसी भी सेक्शन के अंतर्गत इस तरह के मामले की शिकायत दर्ज करने का प्रावधान नहीं है. अंत में पुलिस ने शख्स को जवाब दिया कि उनके पास इस मामले का कोई हल नहीं है और वह उनका दिल वापस नहीं दिलवा सकते हैं.

एक प्रोग्राम में जानकारी दी
नागपुर पुलिस कमिश्नर भुषण कुमार उपाध्याय ने एक प्रोग्राम में पूरे मामले की जानकारी दी. यह प्रोग्राम 82 लाख की चोरी के खुलासे और सामान बरामदगी की खुशी का था, जिसमें कमिश्नर ने पूरे सामान को उसके मालिक को सुपुर्द किया. इस दौरान उन्होंने पूरे मामले की जानकारी देते हुए कहा कि वह चोरी हुए सामान को तो बरामद करा सकते हैं, लेकिन कभी-कभी इस तरह के मामले आ जाते हैं, जिसका हल उनके पास नहीं होता है.