उत्तर प्रदेश में जैसे-जैसे चुनाव नजदीक आ रहे हैं पार्टियों की कवायद तेज होती जा रही है। भाजपा ने इलाहाबाद से हाल में विधानसभा चुनाव का बिगुल फूँका है और अब कांग्रेस की ओर से भी एक बड़ी खबर मिल रही है। खबर है कि यूपी चुनाव के लिए शीला दीक्षित को कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाया जा सकता है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार शीला दीक्षित आज दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी और उपाध्यक्ष राहुल गाँधी से मुलाकात कर सकती हैं। इस मुलाकात में यूपी में सीएम कैंडिडेट के रूप में उनके नाम पर मुहर लग सकती है। जानिए वो पाँच बातें हैं जो शीला दीक्षित को यूपी में कांग्रेस का चेहरा बनाए जाने के पक्ष में जाती हैं…

1. उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के चुनावी रणनीतिकार उत्तर प्रदेश में किसी बड़े ब्राह्मण नेता को सीएम कैंडिडेट बनाना चाहते हैं। उन्होंने जातीय समीकरण बिठाने के बाद यह तय किया है। कांग्रेस के पास सीनियर ब्राह्मण चेहरे के रूप में शीला दीक्षित ही बेहतर विकल्प हैं। शीला दीक्षित के साथ प्लस प्वाइंट यह भी है कि वो खुद खत्री हैं और उन्होंने शादी ब्राह्मण से की है। यूपी में दोनों जातियाँ बड़ी संख्या में हैं। यह भी पढ़ेंः प्रशांत किशोर चाहते हैं यूपी में प्रियंका बनें कांग्रेसी नैया की खेवनहार

2. एक लम्बा राजनीतिक अनुभव उनकी सबसे बड़ी ताकत है। दिल्ली की मुख्यमंत्री के रूप में उन्होंने कई कार्यकाल पूरे किए हैं। उनका यह अनुभव काफी मददगार साबित होगा। शीला दीक्षित को गांधी परिवार का विश्वासपात्र भी माना जाता है।

3. यूपी के चेहरे लिए प्रशांत किशोर की पहली पसंद राहुल गांधी या प्रियंका गांधी थे। उसके बाद वो शीला दीक्षित के पक्ष में ही थे। उन्होंने इस संबंध में एक बार शीला दीक्षित से मुलाकात भी की थी।

4. शीला दीक्षित पंजाबी हैं। उनका जन्म तो कपूरथला में हुआ था लेकिन उनकी शादी उत्तर प्रदेश के ब्राह्मण नेता उमाशंकर दीक्षित के बेटे से हुई थी। इस तरह शीला दीक्षित उत्तर प्रदेश की बहु मानी जाती हैं। यह उनके सीएम कैंडिडेट बनने के लिए सकारात्मक साबित हो सकता है।

5. शीला दीक्षित यूपी के कन्नौज से सांसद भी रह चुकी हैं। इसलिए यह संदेश जाएगा कि शीला दीक्षित का उत्तर प्रदेश से पूराना रिश्ता है।

इस वक्त लखनऊ में कांग्रेस के नए प्रभारी गुलाम नबी आजाद 900 कांग्रेसी नेताओं के साथ बैठक कर रहे हैं। यह बैठक दो दिनों तक चलेगी। इसके बाद प्रदेश में कांग्रेस का नया अध्यक्ष बनाया जाएगा। यह भी पढ़ेंः UP विधानसभा चुनाव 2017, प्रशांत किशोर का प्लान राहुल बने सीएम