गुरुग्राम. हरियाणा की रहने वाली 16 साल की शिवांगी पाठक ने दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट को फतह कर इतिहास रच दिया है. 29000 फीट की ऊंचाई पर पहुंचने वाली वह भारत की सबसे युवा महिला हैं. पीएम नरेंद्र मोदी ने उन्हें ट्वीट कर बधाई दी. अपनी सफलता पर शिवांगी ने कहा, 15 साल की उम्र में मैंने अरुणिमा सिन्हा की बायोपिक देखी थी. मैंने सोचा जब वे ऐसा कर सकती हैं तो मैं क्यों नहीं. पढ़ाई में मेरा मन नहीं लगता था तो मैंने पर्वतारोहण ही शुरू कर दिया. Also Read - Dragon's new plot पूरे एवरेस्ट पर है चीन की नजर, नेपाल को नहीं आ रहा रास, जताया कड़ा विरोध

हरियाणा के हिसार में जन्मी 16 साल की शिवांगी ने कारनाम ‘सेवन समिट ट्रेक’ में हिस्सा लेने के दौरान किया. शिवांगी ने जवाहर इंस्टीट्यूट ऑफ माउंटेन से कोर्स किया है. वह कश्मिर में भी ट्रेनिंग ले चुकी हैं. अपनी इस सफलता से वह काफी खुश हैं और उन्होंने अरुणिमा सिन्हा को इसका क्रेडिट दिया है.

शिवांगी ने अपनी प्रेरणा अरुणिमा सिन्हा को बताते हुए कहा कि दिव्यांग पर्वतारोही के कारनामे से वह काफी प्रभावित हैं. बता दें कि अरुणिमा माउंट एवरेस्ट पर तिरंगा फहराने वाली विश्व की पहली दिव्यांग पर्वतारोही हैं. शिवांगी की ख्वाहिश है कि वह इस ग्रह के हर पर्वत पर चढ़ें.

शिवांगी की सफलता पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर उन्हें बधाई दी थी. उन्होंने इसे शानदार उपलब्धि बताई थी.