नई दिल्ली/भोपाल. राष्ट्रीय गीत वंदे मातरम को लेकर मध्यप्रदेश की सियासत गर्म होती जा रही है. अब पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि बीजेपी के सभी 109 विधायक 6 जनवरी को सचिवालय में वंदे मातरम गाएंगे. उन्होंने कहा कि वंदे मातरम एक ऐसा मंत्र है जिससे हममें देशभक्ति की भावना जागृत करती है. इसे देखते हुए हमने हर महीने की पहली तारीख को वल्लभ भवन में गाने का फैसला लिया था. Also Read - Shock to Employees: एमपी में 2.50 लाख से ज्‍यादा कर्मचारियों को बड़ा झटका, अब जल्‍द होंगे रिटायर

शिवराज ने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि सत्ताधारी दल ने परंपरा को तोड़ा है. मैं कांग्रेस सरकार से मांग करता हूं कि इसे दोबारा लाएं और अगर वे इसे नहीं कर सकते हैं तो मैं देशभक्तों करे साथ वल्लभ भवन में इस गाऊंगा. उन्होंने कहा कि 6 जनवरी को 11 बजे वह परिसर में गाएंगे. Also Read - MP Sidhi Road Accident: मध्यप्रदेश के सीधी में दर्दनाक हादसा, 38 लोगों की मौत, 18 अबतक लापता

बता दें कि शिवराज सरकार में मंत्री रहे उमा शंकर गुप्ता ने कहा था कि जिस वंदे मातरम को लेकर आजादी की लड़ाई लड़ी गई, कांग्रेस उसी से परहेज कर रही है. इससे कांग्रेस की मानसिकता समझी जा सकती है. उन्होंने कहा कि दुनिया सूर्य नमस्कार को अपना रही है. पूरी दुनिया में योग का नाम हुआ है. लेकिन कमलनाथ की सरकार उस पर पाबंदी लगा रही है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, हर महीने के पहले वर्किंग डे पर भोपाल स्थित मंत्रालय में वंदे मातरम गाया जाता था. लेकिन, इस बार वहां ऐसा कोई प्रोग्राम नहीं हुआ. एक जनवरी को कर्मचारियों ने वंदे मातरम नहीं गाया. उन्होंने कहा कि कांग्रेस नकारात्मक भावना से शासन कर रही है.