Bihar politics: सुशांत सिंह की मौत के मामले में बिहार और महाराष्ट्र सरकार जहां आमने-सामने है तो वहीं शिवसेना ने बीजेपी पर सियासी वार करते हुए कहा है कि उनकी नीति है कि हमारे विचारों से असहमत राज्य की सरकारों को हम नहीं चलने देंगे या सीधे गिरा देंगे. लेकिन राजनीतिक घमंड में कई बार उनका सौदा चूक जाता है और शेयर बाजार गिर पड़ता है.सामना में शिवसेना ने बिहार को लेकर तीखी टिप्पणी की है और लिखा है कि राज्य में विकास फेल हो गया तो सुशांत सिंह राजपूत के सहारे अब चुनावी नैया पार करने की कोशिश रहे हैं. Also Read - कोसी-मिथिलांचल के दिलों को जोड़ेगा महासेतु, 86 साल का लंबा इंतजार आज हुआ खत्म

शिवसेना ने आरोप लगाया कि बिहार में ‘विकास’ का मुद्दा सीधे गड्ढे में चले जाने के कारण मुंबई के सुशांत सिंह राजपूत प्रकरण पर राजनीतिक गुजारा शुरू हो गया है. बिहार में सुशांत सिंह राजपूत का मुद्दा सीधे महाराष्ट्र से जोड़ा गया है और इस मुद्दे को बिहार विधानसभा चुनाव में भुनाने की कोशिश की जा रही है. सामना में लिखा है कि केंद्र की ओर से राज्य सरकारों के लिए किसी भी प्रकार की मदद और सहायता की भावना नहीं दिखती. Also Read - बिहार चुनाव से पहले पुलिस मुख्यालय का अजीबोगरीब फरमान जारी, मचा सियासी बवाल

सुशांत  मौत मामले में आमने-सामने हैं बिहार-महाराष्ट्र सरकार Also Read - किसान बिल: पीएम मोदी का विपक्ष पर कटाक्ष-किसान सब देख रहा है, कौन हैं ये बिचौलिए...

बता दें कि बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत के मामले में बिहार व महाराष्‍ट्र की सरकारें आमने-सामने हैं तो दोनों राज्यों में इस मुद्दे को लेकर सियासत भी गर्म है. महाराष्‍ट्र में शिवसेना सांसद संजय राउत ने बिहार व केंद्र सरकारों के साथ बिहार पुलिस व सुशांत के परिवार पर भी गंभीर आरोप लगाए हैं. जिसके बाद बिहार में नाराजगी देखी जा रही है और आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है.

भारतीय जनता पार्टी ने महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे के नार्को टेस्‍ट की मांग की तो वहीं  लोक जनशक्ति पार्टी ने महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे, उनके बेटे आदित्य ठाकरे तथा रिया चक्रवर्ती व मुंबई पुलिस का गधा जुलूस निकाला था.

बिहार सरकार ने महाराष्ट्र सरकार पर लगाए ये आरोप

विदित हाे कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में महाराष्‍ट्र सरकार पर लीपापोती की कोशिश तथा बिहार में दर्ज एफआइआर के आधार पर पटना पुलिस की जांच में बाधा डालने के आराेप लगे हैं. महाराष्‍ट्र सरकार पर मामले को दबाने और सुशांत सिंह राजपूत की तथाकथित सुसाइड की जांच में लापरवाही बरतने के आरोप लगे हैं. इस मामले में आरोप है कि सत्‍ता में बैठे कुछ बड़े लोगों के करीबी जिम्‍मेदार हैं.

सुशांत सिंह की मौत के बाद महाराष्ट्र पुलिस ने पोस्टमार्टम रिपोर्ट पेश की जिसमें अभिनेता की मौत को सुसाइड बताया गया है. जिसके बाद सुशांत के पिता ने पटना में प्राथमिकी दर्ज की और सुशांत की दोस्त रिया चक्रवर्ती और उनके परिवार के खिलाफ बड़े आरोप लगाए हैं. मामले को लेकर बिहार पुलिस और मुंबई पुलिस के बीच विवाद की खबरें आईं और अब मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है. मामले की अब सीबीआइ जांच हो रही है.

गिरने-गिराने का खेल, ये कैसी नीति है

राजस्थान में असफल होने के बाद महाराष्ट्र में गिरने-गिराने के खेल की यह कैसी नीति है? महाराष्ट्र सरकार को अस्थिर करने और गिराने का प्रयास शुरू होगा तो ऐसा खुशी-खुशी करें. लेकिन उसके लिए अकारण मुंह से भाप क्यों छोड़ते हो? भाजपावालों को तो झारखंड की भी सरकार गिरानी है. लेकिन अभी तक वे उसके लिए तैयार नहीं हो पाए.