RIP Shooter Dadi Chandro Tomar: ‘शूटर दादी’ के नाम से मशहूर निशानेबाज चंद्रो तोमर का कोविड-19 के चलते शुक्रवार को निधन हो गया. कुछ दिनों पहले ही उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी जिसके बाद उन्हें सांस लेने में परेशानी के चलते अस्पताल में भर्ती कराया गया था. चंद्रो तोमर का मेरठ के निजी अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था. इससे पहले 27 अप्रैल को उत्तर प्रदेश के बागपत की रहने वाली 89 वर्षीय निशानेबाज दादी के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने की जानकारी उनके ट्विटर पेज पर परिवार ने दी थी. उनके ट्विटर पेज पर लिखा गया, ‘‘दादी चंद्रो तोमर कोरोना पॉजिटिव हैं और साँस की परेशानी के चलते हॉस्पिटल में भर्ती हैं. ईश्वर सबकी रक्षा करे – परिवार.’’Also Read - युवा शिविर में बोले पीएम मोदी, भारत आज दुनिया की नई उम्मीद बनकर उभरा है

बॉलीवुड फिल्म ‘सांड की आंख’ में ‘शूटर दादी’ चंद्रो तोमर की भूमिका निभाने वाली अभिनेत्री भूमि पेडनेकर ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है. इसके अलावा इसी फिल्म में प्रकाशी तोमर की भूमिका निभाने वाली एक्ट्रेस तापसी पन्नू ने भी शोक व्यक्त किया है. इसके अलावा बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ने भी शूटर दादी के निधन पर शोक व्यक्त किया है. Also Read - बैंक अकाउंट में आ गया पूरे शहर का Covid फंड, करोड़ों रुपये पाकर मालामाल हुआ शख्स घर से गायब

Also Read - राजस्थान में बढ़ रहे Corona के मामले, एक्सपर्ट बोले - तीसरी से ज्यादा घातक होगी चौथी लहर

बता दें कि दिवंगत दादी चंद्रो तोमर ने जब निशानेबाजी को अपनाया तब उनकी उम्र 60 वर्ष से अधिक थी लेकिन इसके बाद उन्होंने कई राष्ट्रीय प्रतियोगिताएं जीती और यहां तक उन पर एक फिल्म भी बनायी गयी है. उन्हें विश्व की सबसे उम्रदराज निशानेबाज माना जाता है. उन्होंने अपनी बहन प्रकाशी तोमर के साथ कई प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया. प्रकाशी भी दुनिया की उम्रदराज महिला निशानेबाजों में शामिल हैं.

इन दोनों बहनों की जिंदगी पर फिल्म भी बनी हैं. अपने जीवन में उन्होंने पुरुष प्रधान समाज में कई रुढ़ियों को भी समाप्त किया. घर के पुरुषों ने उनकी निशानेबाजी पर आपत्ति जतायी, लेकिन उनके बेटों, बहुओं और पोते पोतियों ने उनका पूरा साथ दिया. इससे वे घर से निकलकर पास के रेंज में अभ्यास करने के लिए जा पायी. एक बार खेल अपनाने के बाद उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा तथा उन्होंने कई प्रतियोगिताओं में पदक जीते. ‘शूटर दादी’ ने वरिष्ठ नागरिक वर्ग में कई पुरस्कार भी हासिल किये जिनमें स्त्री शक्ति सम्मान भी शामिल है जिसे स्वयं राष्ट्रपति ने भेंट किया था.