नई दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर के शोपियां में हुई गोलीबारी में आरोपी बनाए गए सेना के मेजर आदित्य के खिलाफ किसी भी तरह की जांच पर अगली सुनवाई तक रोक लगा दी है. इससे पहले 21 फरवरी को शीर्ष अदालत ने मेजर आदित्य के खिलाफ दर्ज एफआईआर पर रोक लगा दी थी. सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र, जम्मू-कश्मीर सरकार को नोटिस भेजकर 2 हफ्ते में जवाब मांगा था. इस मामले पर सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में फिर सुनवाई हुई. अदालत ने अब मामले की अगली सुनवाई की तारीख 24 अप्रैल तय की है. शीर्ष अदालत ने अटॉर्नी जनरल ऑफ इंडिया से कहा गया था कि वह दो हफ्ते में केंद्र सरकार का पक्ष साफ करें. हमारी प्रार्थना पर कोर्ट ने निर्देश दिया था कि दर्ज एफआईआर के संबंध में मेजर आदित्य के खिलाफ किसी तरह का ऐक्शन नहीं लिया जा सकता है.Also Read - Delhi Schools Reopen: दिल्ली में कल से खुलेंगे सभी स्कूल-कॉलेज-सरकारी दफ्तर, ट्रकों की एंट्री नहीं

Also Read - Delhi Pollution: दिल्ली में बढ़ा प्रदूषण, नाराज हुए विधानसभा अध्यक्ष, कहा-मेरी बीवी एक महीने से घर के बाहर नहीं निकली

Also Read - Rajasthan REET Exam 2021: अगर हुआ ऐसा तो अटक जाएगी 31000 शिक्षकों भर्ती, जानें क्या है बीएड-बीएसटीसी विवाद

मेजर के पिता पहुंचे थे सुप्रीम कोर्ट

मेजर आदित्य के पिता की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने ये सुनवाई की. प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर और न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ की पीठ ने अधिवक्ता ऐश्वर्या भाटी की इस दलील पर विचार किया था कि सैन्य अधिकारी के पिता की याचिका पर तत्काल प्रभाव से सुनवाई होनी चाहिए. मेजर के पिता के वकील ने दावा किया था कि शोपियां में गोलीबारी की घटना के संबंध में मेजर आदित्य कुमार के खिलाफ दर्ज की गई एफआईआर गैरकानूनी है. हालांकि सोमवार के फैसले पर आदित्य के पिता रिटायर्ड लेफ्टिनेंट कर्नल करमवीर सिंह ने कोई टिप्पणी नहीं की.  

शहीद के पिता लेफ्टिनेंट कर्नल करमवीर सिंह ने कहा था कि 10 गढ़वाल राइफल्स में उनके मेजर बेटे का इस घटना की एफआईआर में ‘गलत तरीके से और मनमाने ढंग’ से नाम दर्ज किया गया. यह घटना अफस्पा के तहत इलाके में सैन्य ड्यूटी पर तैनात सेना के एक काफिले से जुड़ी है जिस पर अनियंत्रित भीड़ ने पथराव किया जिससे सैन्य वाहनों को नुकसान पहुंचा.

शोपियां में हुई थी घटना

शोपियां के गनोवपुरा गांव में पथराव कर रही भीड़ पर सैन्यकर्मी की गोलीबारी में दो नागरिक मारे गए थे जिससे मुख्यमंत्री को इस घटना की जांच के आदेश देने पड़े. मेजर कुमार समेत 10 गढ़वाल राइफल्स के जवानों के खिलाफ रणबीर दंड संहिता की धारा 302 और 307 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है।

पूर्व सेना प्रमुख ने भी किया विरोध

पूर्व सेना प्रमुख जनरल (सेवानिवृत्त) वी पी मलिक ने भी शोपियां में हुई गोलीबारी की एक घटना को लेकर जम्मू-कश्मीर पुलिस द्वारा मेजर के खिलाफ दर्ज की गई प्राथमिकी को वापस लेने की मांग की. उन्होंने कहा कि एक सैनिक को खुद की रक्षा करने का अधिकार है और जम्मू-कश्मीर पुलिस का मेजर आदित्य कुमार के खिलाफ मामला दर्ज करने का फैसला ‘बेवजह और गलत’ है व घटना की जांच के बिना प्राथमिकी दर्ज की गई.