नई दिल्ली. महाराष्ट्र के कोल्हापुर में स्थित महालक्ष्मी मंदिर में महिलाओं के और पुरुषों के छोटे कपड़े पर रोक लगा दी गई है. महाराष्ट्र देवस्थान के चेयरमैन ने कहा है कि यह फैसला श्रद्धालुओं की अपील पर ही लिया गया है. कोई छोटा कपड़ा पहनकर आता है तो उसे कपड़ा बदलने के लिए एक कमरे की सुविदा दी जाएगी.Also Read - Mahalaxmi Temple local women beats Trupti Desai । महालक्ष्मी मंदिर में प्रवेश करने पर तृप्ति देसाई की हुई पिटाई

बता दें कि 10 अक्टूबर से नवरात्रि शुरू हो रही है. ऐसे में ये रोक नवरात्रि के पहले से लागू हो जाएगा. बताया जा रहा है कि महाराष्ट्र देवस्थान समिति के करीब 3000 मंदिरों में भी यह नियम लागू करने पर विचार किया गया है. हालांकि, कई श्रद्धालुओं ने इसे लेकर नाराजगी जताई है.

मंदिर में ड्रेल कोड लागू होने का यह पहला मौका नहीं है. इससे पहले मद्रास हाईकोर्ट की मदुरै बेंच ने एक आदेश जारी करके मंदिरों के प्रशासन समितियों को कहा था कि जींस, बरमूडा, शॉर्ट्स और स्कर्ट पहनकर आने वाले श्रद्धालुओं को मंदिर परिसर में प्रवेश नहीं दिया जाएगा. हालांकि, कोर्ट के इस फैसले को लेकर एक वर्ग ने आपत्ति दर्ज कराई थी. इसके बाद राज्य सरकार के विरोध पर इसपर स्टे लग गया था. वहीं, तिरुपति बालाजी मंदिर में भी महिलाओं और पुरुषों के छोटे कपड़े पहनने पर रोक है. महालक्ष्मी मंदीर प्रशासन द्वारा छोटे कपड़ों पर रोक लगाई गई है.