मंगलुरु : लॉकडाउन के चलते यहां फंसे 1,140 प्रवासी मजदूरों को लेकर विशेष रेलगाड़ी मंगलुरु रेलवे स्टेशन से झारखंड के लिए रवाना हो गयी है. दक्षिण कन्नड़ के सांसद नलिन कुमार कतील और विधायक वेदव्यास कामत शनिवार रात ट्रेन को रवाना करने के लिए रेलवे स्टेशन पर मौजूद थे. Also Read - पूर्व दिल्ली पुलिस कमिश्‍नर और तीन राज्‍यों के राज्‍यपाल रह चुके वेद मारवाह का निधन

कामत ने कहा कि जिन कामगारों ने राज्य सरकार के सेवा सिंधू पोर्टल पर पंजीकरण कराया था उन्हें कर्नाटक राज्य सड़क परिवहन निगम की बसों में रेलवे स्टेशन लाया गया. ट्रेन में सवार होने से पहले सभी मजदूरों की स्वास्थ्य जांच की गई. Also Read - Coronavirus Jharkhand Update: एक दिन 95 नए मामले, संक्रमितों की संख्या हुई 922, रांची में एक और मौत

जिला प्रशासन ने स्टेशन पर श्रमिकों को खाने के पैकेट और पानी भी उपलब्ध कराया. उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड के लिए मंगलुरु से जल्द तीन और रेलगाड़ियां चलाई जाएंगी. इस बीच, दक्षिण कन्नड़ की उपायुक्त सिंधू पी रूपेश ने कहा कि सेवा सिंधू पोर्टल पर अपने नाम पंजीकृत कराने वाले प्रवासी मजदूरों के लिए रेल सेवाएं का प्रबंध किया गया है. Also Read - Earthquake in Jharkhand and Karnataka: भूकंप के झटकों से हिला झारखंड और कर्नाटक, 4.7 की रही तीव्रता

उन्होंने कहा कि मजदूरों को सूचित किया जाएगा कि उनके गंतव्यों तक जाने वाली ट्रेनों का प्रबंध कब होगा और उन्हें बेवजह रेलवे स्टेशन पहुंचने की जरूरत नहीं है. अब तक करीब 20,000 श्रमिकों ने खुद को ऑनलाइन पंजीकृत कराया है जिनमें 5,000 झारखंड से, 3,000 उत्तर प्रदेश से और 4,000 बिहार से हैं.

सैकड़ों प्रवासी श्रमिकों ने घर भेजे जाने की मांग को लेकर शुक्रवार को यहां मध्य रेलवे स्टेशन पर प्रदर्शन किया था. प्रशासन के अधिकारियों और पुलिस द्वारा तीन दिन के भीतर ट्रेनों की व्यवस्था किए जाने के आश्वासन के बाद ही वे अपने-अपने शिविरों को लौटे थे.