श्रीनगर. श्रीनगर के डिप्टी मेयर शेख मोहम्मद इमरान ने ‘मुजाहिद’ शब्द का आतंकवाद से कोई संबंध नहीं होने को लेकर एक कड़ा संदेश देने और ‘सांप्रदायिक नफरत’ भड़का कर चुनाव लड़ने वालों को शिकस्त देने के लिए कश्मीरी युवाओं से अपने नाम में ‘मुजाहिद’ शब्द जोड़ने की अपील की है. Also Read - पिछले 17 दिनों में जम्मू-कश्मीर में मारे गए 27 आतंकी, डोडा जिले में बचा है सिर्फ एक आतंकवादी

उन्होंने यहां एक बयान में कहा, मुजाहिद’ शब्द का मतलब जिहाद (पवित्र लड़ाई) में शामिल होने वाले से है. वह बुराई के खिलाफ हमला करने और सच्चाई की वकालत करने वाला रक्षक है. सभी मुसलमानों को ‘मुजाहिद’ होना चाहिए और इस शब्द का इस्तेमाल करने में कोई नुकसान नहीं है. Also Read - जम्मू कश्मीर में आतंकवाद का समर्थन खत्म होने के करीब, शांति चाहते हैं लोग: वरिष्ठ थल सेना अधिकारी

जिहाद दुश्मन के खिलाफ आध्यात्मिक लड़ाई
उन्होंने कहा, जिहाद दुश्मन के खिलाफ एक आध्यात्मिक लड़ाई है. मीडिया के कुछ वर्गों ने हमारे धर्म की गलत व्याख्या की है. इमरान के मुताबिक, मीडिया हमेशा ‘मुजाहिद’ शब्द का इस्तेमाल नकारात्मक तरीके से करता है. Also Read - आतंकी हमले की साजिश के आरोप में गिरफ्तार कश्मीरी महिला को हुआ कोरोना, जनवरी में हुई थी अरेस्ट