नई दिल्‍ली: हर चुनाव में कुछ ऐसे प्रत्‍याशी होते हैं जो अपनी अलग पहचान बनाने में लगे रहते हैं. इसमें कुछ अगल तरीके से प्रचार-प्रसार करते हैं तो कुछ अपनी वेशभूषा के चलते सुर्खियों में रहते हैं. मगर कुछ ऐसे भी होते हैं जिनके नाम के आगे अनोखा रिकॉर्ड बन जाता है. ऐसे ही एक शख्‍स हैं ओडिशा के बेरहमपुर के रहने वाले 84 साल के श्यामबाबू सुबुद्धि. जिन्‍होंने अब तक 32 बार चुनाव लड़ा है और हर बार उन्‍हें हार का सामना करना पड़ा है. इसके बाद भी उनके हौंसले में कमी नहीं है और वे मौजूदा लोकसभा चुनाव 2019 में फिर से चुनाव लड़ने जा रहे हैं.

 

समाचार एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक, ओडिशा के बेरहमपुर निवासी 84 साल के श्यामबाबू सुबुद्धि सन 1962 से निर्दलीय चुनाव लड़ते आ रहे हैं. उन्होंने अभी तक 32 बार चुनाव लड़ा है, जिसमें लोकसभा, विधानसभा और राज्यसभा चुनाव शामिल हैं. वे कहते हैं कि उन्‍हें भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई जारी रखनी है. उनका चुनाव चिन्ह एक बल्ला है और उस पर ‘प्राइम मिनिस्टर कैंडिडेट’ लिखा हुआ है. उन्‍होंने बताया कि उन्‍हें कई राजनीतिक दलों ने अपनी पार्टी में शामिल होने का न्‍यौता दिया, लेकिन वे हमेशा से ही निर्दलीय प्रत्‍याशी के रूप में चुनाव लड़ते रहे हैं.

प्रियंका का BJP पर हमला, ‘उनके नेता सच्चे देशभक्त होते तो राजीव, इंदिरा का करते सम्मान

अस्का और बेरहमपुर सीट से लड़ रहे सुबुद्धि
श्यामबाबू सुबुद्धि ने बताया कि इस बार उन्‍होंने अस्का और बेरहमपुर सीट से अपना नामांकन दाखिल किया है. मैं मैं ट्रेनों, बसों और बाजार में अपने दम पर अभियान चलाता हूं. इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मैं जीतता हूं या हारता हूं. मुझे भ्रष्‍टाचार के खिलाफ लड़ाई जारी रखनी है.