श्रीनगरः कश्मीर में सिख समुदाय श्रीनगर को बारामूला से जोड़ने वाले एक राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण के लिए 72 साल पुराने गुरुद्वारे के तोड़ने पर बृहस्पतिवार को सहमत हो गया. इस राजमार्ग का निर्माण एक दशक से अटका हुआ था. सिख समुदाय और श्रीनगर जिला प्रशासन के बीच हुए एक समझौते के अनुसार नया गुरुद्वारा पास में एक वैकल्पिक स्थल पर बनाया जाएगा.

साल 1947 में बनाए गए गुरुद्वारा दमदमा साहिब ने मुख्य रूप से पाकिस्तान से आए प्रवासी परिवारों की सेवा की. इसमें लंगर चलता है. श्रीनगर के उपायुक्त शाहिद इकबाल चौधरी ने गतिरोध तोड़ने के लिए व्यक्तिगत रूप से चर्चा में हस्तक्षेप किया. उन्होंने इस मुद्दे का सौहार्दपूर्ण समाधान निकालने के लिए सिख समुदाय से संपर्क किया.

पहाड़ों पर बर्फबारी के बीच दिल्ली-एनसीआर में जोरदार बारिश, हवाई सेवाओं पर भी असर

एक अधिकारी ने बताया कि आज उपायुक्त और गुरुद्वारा प्रबंधन की मौजूदगी में गुरुद्वारा दमदमा साहिब को तोड़ने का काम शुरू हुआ. जब तक नई जगह पर गुरुद्वारा बन नहीं जाता, तब तक यह एक अस्थायी स्थान में रहेगा. उन्होंने कहा कि राज्य के लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) को सिख समुदाय द्वारा दिए किए गए डिजाइन के अनुसार गुरुद्वारा के निर्माण का काम सौंपा गया है.