नई दिल्ली: माकपा महासचिव सीताराम येचुरी (Sitaram Yechury) ने भाजपा (BJP) नेताओं की तुलना फ्रांस की अंतिम महारानी मेरी एंतोयनेत से करते हुए सोमवार को कहा कि सत्तारूढ़ दल के नेता ‘‘गरीबों का मजाक बनाने’’ में उस महारानी से भी आगे हैं. गौरतलब है कि भाजपा के एक सांसद ने हाल ही में लोगों के कपड़ों का हवाला देते हुए कहा था कि इससे दिखता है कि कहीं कोई सुस्ती नहीं है. Also Read - बंगाल चुनाव से पहले हेमा मालिनी का बड़ा बयान, कहा- भाजपा के सत्ता में आने पर ही लोगों का जीवन सुधरेगा

फ्रांस के लुई 16वें की पत्नी एंतोयनेत को फ्रांस की क्रांति की शुरुआत में जब यह बताया गया कि किसानों की औकात रोटी खरीदने की भी नहीं है इसलिए वे क्रांति की राह पर चल पड़े हैं तो, महारानी ने कहा था कि ‘तो उनसे कहो कि वे केक खाएं.’ Also Read - सुशांत सिंह सुसाइड केस पर अब राजनीति हुई तेज़, कांग्रेस ने लिखा गृहमंत्री को पत्र, उठाई ये मांग

येचुरी ने ट्वीट किया, ‘‘भाजपा ने ना सिर्फ गंभीर आर्थिक संकट और सामाजिक वैमनस्य की स्थिति पैदा कर दी है, वह इस देश में तकलीफें झेल रहे गरीबों का भी मजाक बनाना चाहती है जो बुरी तरह से पीड़ित हैं उनके नेताओं से तो मेरी एंतोयनेत भी लज्जित हो जाए.’’ Also Read - भाजपा ने बंगाल सरकार पर लगाया आरोप, कहा- नहीं बांटने दिया जा रहा है पार्टी कार्यकर्ताओं को राहत सामग्री

वहीं दूसरी तरफ पदोन्नति में आरक्षण पर सर्वोच्च न्यायालय के फैसले के बाद राष्ट्रीय जनता दल (RJD) प्रमुख लालू प्रसाद (Lalu Prasad Yadav) ने भी भारतीय जनता पार्टी (BJP) सरकार पर निशाना साधा है. अपने ट्वीट में लालू ने नसीहत देते हुए कहा कि आरक्षण खत्म करने की बात करने वाले जातियां खत्म करने की बात क्यों नहीं करते? लालू प्रसाद ने सोमवार को ट्वीट में कहा, “आरक्षण खत्म करने की बात करने वाले जातियां खत्म करने की बात क्यों नहीं करते? इसलिए कि जातियां उन्हें श्रेष्ठ बनाती हैं, ऊंचा स्थान देकर बेवजह उन्हें स्वयं पर अहंकार करने का अवसर देती है. हम कहते हैं पहले बीमारी खत्म करो लेकिन वो कहते हैं नहीं पहले इलाज खत्म करो.” शीर्ष अदालत ने अपने आदेश में कहा है कि पदोन्नति में आरक्षण कोई मौलिक अधिकार नहीं है और राज्य नियुक्तियों में आरक्षण देने के लिए बाध्य नहीं हैं.

 

इनपुट-भाषा