हजारीबाग: बीजेपी छोड़ने के दो दिन बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा ने आरोप लगया है कि नरेंद्र मोदी सरकार के पिछले चार साल के कार्यकाल में देश के हालात आपातकाल से भी खराब हुए हैं. बीजेपी से 21 अप्रैल को इस्तीफा देने वाले और दलीय राजनीति से संन्यास लेने वाले सिन्हा ने यह दावा भी किया है कि देश की जनता मोदी सरकार के कार्यों की वजह से असुरक्षित महसूस कर रही है. सरकार ने लोकतंत्र के मंदिर को नष्ट कर दिया है. उन्होंने ने सोमवार को मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि उनके इस्तीफे का केंद्रीय मंत्री और उनके पुत्र जयंत सिन्हा के जन्मदिन से कोई लेनादेना नहीं है. Also Read - बिहार में पीएम मोदी की रैली में दिखे कई रंग, सबसे अहम-दो गज की दूरी अभी है जरूरी

उन्होंने कहा कि यह महज संयोग था कि उनके बेटे का जन्मदिन भी उसी दिन था जिस दिन उन्होंने बीजेपी से इस्तीफा दे दिया था. यशवंत सिन्हा ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार ने जो हालात पैदा किये हैं, वो इंदिरा गांधी द्वारा लगाये गये आपातकाल से भी बुरे हैं. संसद के बजट सत्र में कोई कामकाज नहीं होने का जिक्र करते हुए उन्होंने दावा किया कि मोदी सरकार संसद को सुचारू तरीके से नहीं चलने देना चाहती थी क्योंकि वह विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव का सामना नहीं करना चाहती थी. Also Read - Bihar Assembly Election 2020: बिहार में पीएम मोदी की आज 3 रैलियां, नीतीश भी होंगे साथ

केवल एक वोट से गिरी थी वाजपेयी की सरकार..
पूर्व विदेश मंत्री ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने 1998 में अविश्वास प्रस्ताव का सामना करने में कोई संकोच नहीं किया था जब उनकी सरकार केवल एक वोट से गिर गयी थी. उन्होंने कहा, लेकिन मौजूदा सरकार ने संसद की शुचिता बनाये रखने की परवाह नहीं की. उन्होंने इसे उच्चतम न्यायालय , चुनाव आयोग आदि पर नियंत्रण करने और प्रेस की आवाज दबाने की सरकार की सोच करार देते हुए इस पर चिंता जताई. Also Read - बंगाल में दुर्गा पूजा के मौके पर बोले पीएम मोदी- आत्मनिर्भर भारत’ के संकल्प से ‘सोनार बांग्ला’ के संकल्प को पूरा करना है

लोकतंत्र को बचाने की ली है जिम्मेदारी..
यशवंत सिन्हा ने कहा कि इसी वजह से उन्होंने लोकतंत्र को बचाने की जिम्मेदारी ली है. उन्होंने सरकार द्वारा सीबीआई, एनआईए, ईडी और आयकर जैसी एजेंसियों का इस्तेमाल विपक्षी नेताओं का उत्पीड़न करने और उनका मुंह बंद करने के लिए किए जाने का आरोप लगाया. (इनपुट-भाषा)