रुपोही (असम): असम के नगांव जिला में बिजली की हाईवोल्टेज तार के एक तालाब में गिर जाने के चलते करंट लगने से कम से कम छह मछुआरों की शुक्रवार को मौत हो गयी और इतनी ही संख्या में मछुआरे घायल हो गये. पुलिस ने यह जानकारी दी. Also Read - तरुण गोगोई मेरे 'गुरु' थे, मुझे अपने बेटे की तरह मानते थे: राहुल गांधी

Also Read - अलविदा: छात्र संघ के सेनापति से लेकर तीन बार CM की कुर्सी तक, तरुण गोगोई ने राजनीति में ऐसे बनाया था दबदबा

यह हादसा जुरिया पुलिस थाना अंतर्गत रुपोही इलाके में उस वक्त हुआ, जब तालाब के ऊपर लटक रही 11,000 वोल्ट की ढीली तार पानी से छू गई. पुलिस ने स्थानीय निवासियों के हवाले से बताया कि सुबह करीब पांच बजे ग्रामीणों ने बिजली विभाग को तार के ढीली होने की सूचना दी थी, लेकिन उन्हें बताया गया कि तार में करंट नहीं है. ग्रामीणों ने बताया कि एक घंटा बाद मछुआरे तालाब में गये, लेकिन तार में करंट आ गया और इसकी चपेट में आकर छह मछुआरों की मौत हो गयी. Also Read - असम के पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई का निधन, हाल ही में दी थी कोरोना को मात

यूपी के गोंडा में बड़ा सड़क हादसा, दामाद समेत चार लोगों की मौत, आठ अन्य जख्मी

बिजली मंत्री घटनास्‍थल के लिए रवाना

पुलिस ने बताया कि घायलों को नगांव के सरकारी अस्पताल में ले जाया गया है. पुलिस ने बताया कि नाराज ग्रामीण लाठी-डंडे लेकर बिजली विभाग के अधिकारियों के घर पहुंचे और उनकी कार को नुकसान पहुंचाया. मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल के निर्देश पर राज्य के बिजली मंत्री केसब गोगोई घटनास्थल के लिए रवाना हो गए. (इनपुट एजेंसी)