नई दिल्ली। वित्त मंत्री अरुण जेटली के अस्वस्थ होने के कारण मोदी कैबिनेट में अहम बदलाव किया गया है. जेटली की जगह रेल मंत्री पीयूष गोयल को वित्त मंत्रालय की कमान सौंपी गई है. आज ही अरुण जेटली की सफल किडनी ट्रांसप्लांट हुई है. इसके अलावा एक और अहम बदलाव के तहत स्मृति ईरानी से सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ले लिया गया है. ये मंत्रालय अब राज्यवर्धन राठौर को सौंपा गया है.स्मृति ईरानी अब सिर्फ कपड़ा मंत्रालय देखेंगी.

राष्ट्रपति भवन द्वारा जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि राठौड़ को सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय में राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बनाया गया है. कर्नाटक विधानसभा चुनाव के परिणाम आने के एक दिन पहले केंद्रीय मंत्रिपरिषद में यह फेरबदल हुआ है. यह दूसरा मौका है जब स्मृति ईरानी से कोई प्रमुख मंत्रालय वापस लिया गया है. इसके पहले उनसे मानव संसाधन विकास मंत्रालय वापस ले लिया गया था और उन्हें कपड़ा मंत्रालय का जिम्मा सौंपा गया था. वह कपड़ा मंत्री बनी रहेंगी. विज्ञप्ति के अनुसार अरूण जेटली के स्वस्थ होने तक वित्त और कारपोरेट मामलों का प्रभार अस्थायी रूप से गोयल को सौंपा गया है.

गोयल को जेटली के स्वस्थ होने तक जिम्मेदारी

इससे पहले विवादों के चलते स्मृति से मानव संसाधन मंत्रालय ले लिया गया था और उनकी जगह प्रकाश जावड़ेकर को इसकी कमान दी गई थी. वहीं, पीयूष गोयल को अरुण जेटली के स्वस्थ होने तक वित्त मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई है. इसी तरह के जे अल्फोंस अब सिर्फ पर्यटन मंत्रालय ही देखेंगे. एएस अहलूवालिया को इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी का नया राज्यमंत्री बनाया गया है. पहले ये मंत्रालय अल्फोंस के पास था.

‘फेक न्यूज’ पर विवाद में घिरीं स्मृति

सूचना प्रसारण मंत्री रहते स्मृति ईरानी उस वक्त विवादों में घिर गई थीं जब मंत्रालय ने फेक न्यूज के संबंध में नया कानून लागू करने की बात कही थी. तब इस कदम की व्यापक आलोचना हुई थी और पीएमओ के निर्देश पर फैसला वापस ले लिया गया था. सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने अप्रैल 2018 में फर्जी समाचारों पर लगाम कसने के लिए उपायों की घोषणा की थी. इसमें कहा गया कि अगर कोई पत्रकार फर्जी खबर बनाते या उसका प्रसार करते हुए पाया गया, तो उस पत्रकार की मान्यता स्थायी रूप से रद्द कर दी जाएगी. मीडिया समुदाय और विपक्षी दलों के तीखे विरोध और पीएमओ के हस्तक्षेप केबाद इन दिशानिर्देशों को वापस ले लिया गया.

जेटली का किडनी ट्रांसप्लांट

अरुण जेटली का सोमवार को दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में किडनी प्रत्यारोपण हुआ है. अस्पताल के अधिकारियों के अनुसार करीब चार घंटे के ऑपरेशन के बाद उनकी हालत स्थिर है. 65 वर्षीय जेटली अप्रैल के शुरू से ही ज्यादातर काम घर से कर रहे थे. उन्हें शनिवार को अस्पताल में दाखिल कराया गया था. उनकी सर्जरी सुबह करीब 8.30 बजे शुरू हुई और दोपहर में करीब एक बजे तक चली. उसके बाद जेटली को सघन चिकित्सा कक्ष (आईसीयू) में रेफर किया गया.

अस्पताल के अधिकारियों के अनुसार जेटली और उनको किडनी दान करने वाली महिला, दोनों का स्वास्थ्य स्थिर है और उसमें सुधार हो रहा है. वरिष्ठ डाक्टरों की एक टीम उनकी लगातार निगरानी कर रही है. एम्स सूत्रों ने बताया कि जेटली की दूर की एक महिला रिश्तेदार ने उन्हें किडनी दी है. जेटली से जुड़े सूत्रों ने बताया कि उनके 10 से 15 दिनों तक अस्पताल में रहने की संभावना है. सर्जरी के बाद की जांच रिपोर्ट सामान्य है और उनकी तबियत में सुधार हो रहा है. पीएम मोदी भी लगातार जेटली के परिवार के संपर्क में हैं.