नोएडाः ‘पॉलीथिन मुक्त भारत अभियान’ को सफल बनाने के लिए जनमानस की सहभागिता को जरूरी बताते हुए केंद्रीय बाल विकास एवं वस्त्र मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि हर व्यक्ति अपनी नैतिक जिम्मेदारी समझ इस आंदोलन में अपना अमूल्य योगदान दें. उन्होंने यहां इंदिरा गांधी कला केंद्र में नोएडा एपैरल कलस्टर द्वारा कपड़े के थैलों के निशुल्क वितरण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए यह बात कही. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150 वी जयंती पर एकल उपयोग प्लास्टिक को बंद करने का निर्णय लिया है. देश को प्लास्टिक मुक्त बनाने तथा प्रदूषण से बचाने के लिए लिए गए सरकार के इस फैसले में जनमानस की भागीदारी आवश्यक है.

लेट हुई तेजस एक्सप्रेस तो घंटों के हिसाब से मिलेगा मुआवजा, दिया जाएगा 25 लाख रुपए का फ्री बीमा

उन्होंने पूर्व की सरकारों पर निशाना साधते हुए कहा कि आखिर देश के आजादी के 70 साल बाद तक देशवासियों को इससे मुक्ति के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का इंतजार क्यों करना पड़ा? उन्होंने कहा कि पूर्व सरकारें यह कदम क्यों नहीं उठा पाईं. उन्होंने कहा कि आने वाली पीढ़ियों को हम गर्व से कह सकते हैं कि हमनें उनके सुनहरे भविष्य के लिए एकल उपयोग प्लास्टिक का प्रयोग बंद किया और इस पृथ्वी को प्रदूषण से बचाने की दिशा में कदम उठाया.

केंद्रीय मंत्री ईरानी ने सेक्टर 94 में नोएडा प्राधिकरण द्वारा प्लास्टिक कचरे से बनाए गए विशाल चरखे का भी आज उद्घाटन किया उन्होंने चरखे की सराहना करते हुए कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने चरखे के माध्यम से देश को आजादी दिलाई अब नोएडा ने प्लास्टिक कचरे से चरखा बनाकर शहर को प्लास्टिक मुक्त बनाने का संकल्प लिया है.

Gandhi Jayanti : भविष्य में भारत में न ‘मेड इन चाइना’ होगा, न ही ‘मेड इन जापान’ होगा, सिर्फ Made in India होगा : निशंक

उन्होंने कहा कि ग्रेटर नोएडा में बन रहे अपैरेल क्लस्टर से 5 लाख लोगों को रोजगार मिलेगा जिनमें करीब 60 प्रतिशत महिलाएं होंगी. ढाई सौ एकड़ में बन रहे इस कलस्टर से शहर को एक नई पहचान मिलेगी. उन्होंने कार्यक्रम में मौजूद उद्यमियों को आश्वासन दिया कि अपैरेल डिजाइन और ईपीसीएस तथा हैंडीक्राफ्ट के क्षेत्र में मंत्रालय से उन्हें हरसंभव मदद दी जाएगी. उन्होंने नोएडा में महिलाओं के लिए एक पिंक टॉयलेट का उद्घाटन भी किया