नई दिल्ली : कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते अब तक हजारों लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. दुनिया भर में कहर बरपाने के बाद अब इस संक्रमण ने भारत को भी अपनी जद में लेना शुरू कर दिया है, जिसके चलते यहां भी अब तक 2 लोगों की जान चुकी है. जब से दुनिया में यह संक्रमण फैला है, तभी से ऐसे कई दृश्य सामने आ चुके हैं, जिन्हें देखने के बाद लोगों का दिल दहल उठा. ऐसे में एक और ऐसी ही खबर सामने आई है, जिसके बारे में जानने के बाद आप भी अपने आंसू रोक नहीं पाएंगे. Also Read - Covid-19: निजामुद्दीन के मरकज में सैंकड़ों कोरोना संदिग्ध, दिल्ली सरकार ने दिया मौलाना पर FIR दर्ज करने का आदेश

कतर से 8 मार्च को लौटे 30 वर्षीय लिनो एबेल कोरोना वायरस (Coronavirus) से प्रभावित होने के चलते इन दिनों अस्पताल में भर्ती हैं. लेकिन, कोरोना वायरस के चलते उन्होंने अपने आप को तब लाचार महसूस किया जब वह अपने पिता की अंतिम यात्रा में शामिल तक नहीं हो सके. दरअसल, लिनो के पिता की कुछ दिनों पहले अचानक ही तबीयत खराब हो गई, जिसके बाद उन्हें उसी अस्पताल में भर्ती कराया गया, जिसमें लिनो एडमिट थे. Also Read - COVID-19 से दुनिया में मौतों का आंकड़ा 34,610, संक्रमण के 7 लाख 27 हजार से ज्‍यादा केस

Coronavirus : ‘मेरी बहन कोरोना वायरस से मर चुकी है, मैं शव के साथ घर पर हूं, समझ नहीं आ रहा क्या करूं’ Also Read - Covid-19: बिना इजाजत के धार्मिक कार्यक्रम में शामिल हुए 200 लोग, कोरोना के लक्षण दिखने पर निजामुद्दीन इलाके की घेराबंदी

पिता की खराब तबीयत की जानकारी मिलने पर लिनो अपने पिता से मिलना चाहते थे, लेकिन कोविड-19 से प्रभावित होने के चलते वह अपने पिता से नहीं मिल सके. इसी बीच उन्हें पता चला कि उनके पिता की स्ट्रोक के चलते मौत हो गई है. जिसके बाद जब लिनो के पिता को अस्पताल से उनके परिजन लेकर निकले तो वह खिड़की से ही अपने पिता की अंतिम यात्रा देखते रहे, लेकिन उनके अंतिम संस्कार में शामिल नहीं हो सके.

लिनो ने फेसबुक के जरिए अपनी इस कहानी को शेयर किया है. उन्होंने लिखा ‘अगर मैं डॉक्टर के पास नहीं गया होता तो अपने पिता को कम से कम आखिरी बार देख तो पाता, लेकिन मैं ऐसा नहीं कर सकता था, क्योंकि मुझसे यह संक्रमण दूसरों में फैल सकता था. जिसके चलते मैं अपने पिता की अंतिम यात्रा में भी शामिल नहीं हो पाया. कृपया खाड़ी देशों से यात्रा करने वाले सभी लोग स्वास्थ्य अधिकारियों को रिपोर्ट करें कि अगर वह आपको कुछ समय और अलग वार्ड देंगे तो आप अपने परिवार के साथ कुछ समय बिता सकेंगे.’