नई दिल्लीः बच्चों से लेकर युवाओं तक में पब्जी (PUBG) की दीवानगी से हर कोई वाकिफ है और लोग इस बात को भी बखूबी जानते हैं कि यह गेम आजकल इस गेम ने लोगों को किस कदर अपनी जद में ले रखा है और लोगों को हिंसात्मक गतिविधियों के लिए उलझा रहा है. हाल ही का मामला बेंगलुरू का है, जहां एक युवक के अपने बेटे को पब्जी (PUBG) खेलने से मना करना उसके बेटे को इतना नागवार गुजरा कि उसने अपने ही पिता की चाकू से गोदगर हत्या कर दी. पब्जी की इस दीवानगी को देखकर न सिर्फ बच्चे के परिजन बल्कि आस-पड़ोस के साथ ही शहर भर के लोग हैरान हैं.

UP: हत्या के आरोपी ने हवालात के अंदर फांसी लगाकर की खुदकुशी, मचा हड़कंप

खबर सामने आने के बाद लोग यही सोच रहे हैं कि आखिर एक गेम किसी को किस हद तक हिंसात्मक बना सकता है और उससे क्या-क्या नहीं करा सकता. बच्चे की इस करतूत के बाद घर के सभी लोग सदमे में हैं और उन्हें समझ नहीं आ रहा कि वह क्या करें. बता दें घटना कर्नाटक के बेलागवी जिले की है, जहां शंकरप्पा कुंभार नाम के युवक की उसके ही बेटे ने चाकू से गोदकर हत्या कर दी.

UP: पत्नी की हत्या में भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिला मंत्री के खिलाफ मुकदमा

मिली जानकारी के मुताबिक उनका 25 वर्षीय बेटा रघुवीर पब्जी खेल रहा था, इसी बीच शंकरप्पा ने उसे गेम खेलने से मना किया तो वह नहीं माना. पिता ने सख्ती दिखाई तो बच्चे ने पिता पर चाकू से कई वार किए और पिता की हत्या कर दी. पुलिस ने बताया कि लड़के को गिरफ्तार कर लिया गया है और आगे की जांच चल रही है.

पत्नी की हत्या के बाद पति ने खुद को लगाई आग, बचाने आई सास भी झुलसी, ये थी वजह

बता दें हाल ही में ऐसा मामला मध्य प्रदेश के मुरैना जिले से भी सामने आया था, जहां एक बच्चे ने इस बात से दुखी होकर आत्महत्या कर ली कि उसे उसकी बहन ने उसे देर तक पब्जी खेलने से रोक दिया. मामला कोतवाली थाना क्षेत्र की पराग ऑयल मिल के पास का है, जहां 18 वर्षीय एक लड़के ने पब्जी की दीवानगी में अपनी जान दे दी.