देहरादून: यहां बैंक के साथ धोखाधड़ी का एक अजीब मामला सामने आया है, जिसमें बेटा अपने मृत पिता के नाम पर लगातार 36 साल तक पेंशन लेता रहा. इतना ही नहीं, कानूनी प्रक्रिया पूरी करने के लिए वह हर साल पिता के हस्‍ताक्षर वाला प्रमाण पत्र भी बैंक में जमा करता रहा. मामला उजागर होने के बाद भारतीय स्टेट बैंक की मुख्य शाखा ने आरोपी व्यक्ति के खिलाफ पुलिस में मुकदमा दर्ज कराया है.

बैंक द्वारा पुलिस को दी गई तहरीर के मुताबिक, यूके सरकार (57) के पिता के के सरकार वन विभाग से वर्ष 1955 में सेवानिवृत्त हुए थे और 1981 में उनका निधन हो गया था. हालांकि, आरोपी ने इसकी सूचना बैंक अधिकारियों को नहीं दी और हर वर्ष उनके दस्तखत के साथ उनके जीवित होने का प्रमाणपत्र बैंक में जमा कराता रहा जिसके आधार पर उसे पेंशन मिलती रही.

पुलिस ने बताया कि मामले का खुलासा तब हुआ जब आयकर विभाग ने बैंकों को 100 वर्ष की उम्र पार कर चुके पेंशनधारकों के घर जाकर मौका मुआयना करने के निर्देश दिए. मामला उजागर होने से सकते में आये बैंक ने इस संबंध में एक आंतरिक जांच भी गठित कर दी है.