नई दिल्ली। कांग्रेस की वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि देने उनके आवास पहुंचे. पार्टी के मुताबिक सोनिया और सिंह कृष्णा मेनन मार्ग स्थित वाजपेयी के आवास पर रात करीब 9:30 पहुंचे और दिवंगत नेता को श्रद्धांजलि अर्पित की. अटल जी के निधन पर दुख प्रकट करते हुए सोनिया ने कहा कि वाजपेयी जीवन भर लोकतांत्रिक मूल्यों के लिए खड़े रहे और यह प्रतिबद्धता उनके हर काम में परिलक्षित होती थी. Also Read - सोनिया गांधी की मोदी सरकार से डिमांड- जरूरत मंदों और प्रवासी मजदूरों को केंद्र 7,500 रुपये दे

Also Read - बीजेपी का हमला- महाराष्ट्र में उद्धव ड्राइविंग सीट पर हैं, मगर स्टीयरिंग पवार और गियर सोनिया के हाथ में है

‘मैं जी भर जिया, मैं मन से मरूं, लौटकर आऊंगा, कूच से क्यों डरूं?’ Also Read - विपक्षी दलों ने की ‘अम्फान’ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग, 20 लाख करोड़ के ​पैकेज को सोनिया गांधी ने बताया 'क्रूर मजाक'

संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की प्रमुख सोनिया गांधी ने कहा, अटल बिहारी वाजपेयी जी निधन से बहुत दुखी हूं. वह हमारे राष्ट्रीय जीवन में एक विशाल व्यक्तित्व थे. वह पूरा जीवन लोकतांत्रिक मूल्यों के लिए खड़े रहे और एक सांसद, कैबिनेट मंत्री और प्रधानमंत्री के तौर पर उनके हर काम में लोकतांत्रिक मूल्यों के प्रति उनकी प्रतिबद्धता परिलक्षित हुई.

उन्होंने कहा, वह एक शानदार वक्ता, बड़े दृष्टिकोण वाले नेता और ऐसे देशभक्त थे जिनके लिए राष्ट्रहित सर्वोच्च था. परन्तु इन सबसे ऊपर वह एक बड़े हृदय वाले और उदार व्यक्ति थे.

सोनिया गांधी ने कहा, चाहे उनका दूसरे राजनीतिक दलों व नेताओं के साथ संवाद रहा हो, विदेशी सरकारों के साथ संवाद रहा हो, सहयोगी दलों या फिर अपनी पार्टी के सहयोगियों के साथ संवाद रहा हो, उनकी यह भावना सबको दिखी. सोनिया ने कहा कि वाजपेयी के निधन से देश की राजनीति में बड़ा निर्वात पैदा हुआ है.