नयी दिल्ली: कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने मंगलवार को आरोप लगाया कि मोदी सरकार लोगों की आवाज दबा रही है और ऐसे कानून ला रही है जो उन्हें स्वीकार्य नहीं है. सोनिया गांधी संशोधित नागरिकता कानून और जामिया मिल्लिया इस्लामिया में छात्रों पर पुलिस कार्रवाई के खिलाफ राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को ज्ञापन देने गए विपक्षी शिष्टमंडल का नेतृत्व कर रही थीं. उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि स्थिति ‘काफी गंभीर’ है.

 


विभिन्न विपक्षी नेताओं के साथ कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि लोकतांत्रिक अधिकारों का उपयोग कर शांतिपूर्ण प्रदर्शन करने वालों पर पुलिस ने जिस ढंग से कार्रवाई की, उससे वे काफी दुखी हैं. उन्होंने कहा कि पुलिस जामिया मिल्लिया इस्लामिया में महिला हॉस्टल में भी घुस गई और छात्रों की निर्ममता से पिटायी की. उधर, नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के विरोध में राष्ट्रीय राजधानी के सीलमपुर, और जाफराबाद इलाकों में मंगलवार को भी हिंसक विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए हैं. इस दौरान प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच संघर्ष जारी है. विरोध प्रदर्शनों के मद्देनजर दिल्ली मेट्रो के वेलकम, जाफराबाद और मौजपुर-बाबरपुर स्टेशनों के प्रवेश द्वार और बाहर निकलने के द्वार बंद कर दिए गए हैं.


Delhi Violence: जाफराबाद-सीलमपुर हिंसा में कई घायल, पुलिस वाहन में लगाई आग

नीतीश का नकली धर्मनिरपेक्षता का चोला भी उतर गया : लालू
नागरिकता संशोधन विधेयक (सीएबी) को जनता दल (युनाइटेड) की ओर से संसद में समर्थन दिए जाने को लेकर राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद ने मंगलवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर जमकर निशाना साधा. लालू के ट्विटर हैंडल से किए गए ट्वीट में लिखा गया, “नीतीश ने समाजवादी चरित्र तो पहले ही खो दिया था, अब उसका नकली धर्मनिरपेक्षता का चोला भी उतर गया. उन्होंने आगे लिखा कि आदतन विश्वासघाती नीतीश के पेट की आंत में छुपे दांत गिनने के बाद भी केवल सांप्रदायिक सांपों से देश के बहुरंगी सामाजिक ताने-बाने और संविधान को बचाने के लिए ही जहर पीकर उसे मुख्यमंत्री बनाया था. नीतीश कर पार्टी जद (यू) ने लोकसभा और राज्यसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक का समर्थन किया था. लालू प्रसाद चर्चित चारा घोटाला के कई मामलों में रांची की एक जेल में सजा काट रहे हैं. फिलहाल खराब स्वास्थ्य के कारण वह रांची के एक अस्पताल में भर्ती हैं.