नई दिल्ली: कांग्रेस पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने एक बार फिर से केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोला है. उन्होंने केंद्र सरकार पर लोकतांत्रिक संस्थाओं को ध्वस्त करने का आरोप लगाया है. छत्तीसगढ़ विधानसभा के नए भवन के शिलान्यास समारोह के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए कहा कि देश में तानाशाही का प्रभाव बढ़ा रहा है.Also Read - RJD Chief Lalu Yadav ने नीतीश कुमार को बताया अहंकारी और लालची, कांग्रेस के बारे में अब कही ऐसी बात

उन्होंने कहा, “हमें याद रखना होगा कि हमारा संविधान इन भवनों से नहीं भावनाओं से बचा रहेगा. इन भवनों से दूषित और गलत भावनाओं के प्रवेश को रोकना होगा तभी हमारा संविधान बचेगा.” सोनिया गांधी ने कहा कि आजादी की लड़ाई के दौरान हमने जो प्रण किया था उसे पूरा करने के लिए अभी भी बहुत कुछ किया जाना बाकि है. पिछले कुछ समय से लोकतंत्र के सामने नई चुनौतियां खड़ी हुई हैं. लोकतांत्रिक संस्थाएं ध्वस्त हो रही हैं. लोकशाही पर तानाशाही का प्रभाव बढ़ रहा है. Also Read - UP Election 2022: विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस का बड़ा वादा- 10 लाख तक का इलाज मुफ्त होगा

सोनिया ने छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल सरकार की जमकर तारीफ की. उन्होंने कहा, “15 वर्ष की लंबी अवधि के बाद छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनी है. पिछले वर्षों में छत्तीसगढ़ में जो हुआ वह उदाहरण है कि एक दिशाहीन और विचारहीन सरकार जनहित के बारे में कभी नहीं सोच सकती. मुझे प्रसन्नता है कि हमारी सरकार सही दिशा में काम कर रही है.” Also Read - 7th Pay Commission: 7 दिन बाद केंद्रीय कर्मचारियों की होगी बल्ले-बल्ले, 31% की दर से होगा DA का भुगतान, बढ़ेंगे 20, 484 रुपये- यहां समझें कैलकुलेशन

सोनिया गांधी ने कहा कि सत्ता में बैठे लोग चाहते हैं कि जनता लड़ें, वे देश में नफरत का जहर फैला रहे हैं. अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता खतरे में है, लोकतंत्र नष्ट हो रहा है. वे चाहते हैं कि भारत के लोग, हमारे आदिवासी, महिलाएं, युवा अपना मुंह बंद रखें. उन्होंने कहा, “महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू और बीआर अंबेडकर सहित हमारे पूर्वजों में से किसी ने भी कल्पना नहीं की होगी कि हमारे देश को आजादी के 75 साल बाद ऐसी कठिन परिस्थिति का सामना करना पड़ेगा जब हमारा लोकतंत्र और संविधान खतरे में है.”