शिमला। यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी को कल मध्यरात्रि में बेचैनी की शिकायत होने के बाद दिल्ली ले जाया गया। वह छरबरा में अपना निर्माणाधीनमकान देखने आई थीं. कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष यहां अपनी बेटी प्रियंका गांधी वाड्रा के साथ आई थीं. इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेज( आईजीएमसी) अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक डॉक्टर रमेश चंद ने बताया कि सोनिया गांधी के साथ मौजूद एक डॉक्टरने एंबुलेंस की व्यवस्था करने के लिए फोन किया था. Also Read - Petrol Diesel Price Increase: पेट्रोल-डीजल के दाम में बढ़ोत्तरी को लेकर राहुल गांधी ने सरकार पर साधा निशाना, 'चुनाव खत्म, लूट फिर शुरू'

डॉक्टर चंद ने बताया कि तुरंत ही वह अपने कार से निकल गईं और डॉक्टरों की एक टीम रास्ते में उनसे मिली. दिल्ली जाने के दौरान रास्ते में वहकुछ देर के लिए पंचकुला में रुकीं. डॉक्टर चंद चंडीगढ़ तक सोनिया गांधी के साथ थे. उन्होंने बताया कि यूपीए अध्यक्ष की हालत स्थिर है. Also Read - कांग्रेस ने कहा- TMC वर्कर्स ने हमारे कार्यकर्ताओं पर भी हमला किया, स्थिति संभालें ममता बनर्जी

कई बार बिगड़ी है तबियत

हाल के कुछ सालों में सोनिया गांधी की तबियत कई बार बिगड़ी है और उन्हें अपना कार्यक्रम अचानक से रद्द करना पड़ा है. 27 अक्टूबर 2017 को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अचानक तबियत बिगड़ने से उन्हें दिल्ली स्थित सर गंगाराम अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जिस वक्त सोनिया की तबीयत बिगड़ी वो शिमला में थीं. पेट दर्द की शिकायत के बाद शाम करीब पांच बजे सोनिया गांधी को गंगाराम अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

तब सोनिया हिमाचल में छुट्टिया बिता रही थीं और कुफरी के एक होटल में ठहरी थीं. इस दौरान वह शिमला में प्रियंका वाड्रा का मकान देखने भी पहुंची थीं. लेकिन यहां अचानक उनकी तबियत बिगड़ गई जिसके बाद उन्हें दिल्ली लाना पड़ा और सर गंगाराम अस्पताल में भर्ती कराया गया.

इलाज के लिए विदेश भी गईं

इलाज कराने के लिए सोनिया गांधी साल 2016 में विदेश भी गई थीं. इन दिनों सार्वजनिक कार्यक्रमों में भी उनकी उपस्थिति कम ही दिखाई पड़ती हैं. वह सिर्फ महत्वपूर्ण बैठकों में ही शिरकत करती हैं. खराब सेहत के चलते ही कांग्रेस की कमान राहुल गांधी को दी गई. हाल ही में सोनिया अपने आवास पर आयोजित डिनर पार्टी और दिल्ली में हुए कांग्रेस अधिवेशन में नजर आई थीं.