नंदीग्राम: तृणमूल कांग्रेस को छोड़ कर हाल ही में भाजपा में शामिल हुए शुभेन्दु अधिकारी के बाद अब उनके भाई एवं तृणमूल नेता सौमेन्दु अधिकारी भी अनेक कार्यकर्ताओं के साथ भाजपा में शामिल हो गए. सौमेन्दु को हाल ही में कोन्टाई नगरपालिका के प्रशासक पद से हटा दिया गया था. इससे पहले शुभेन्दु ने पूर्व मेदिनीपुर में एक बैठक में कहा था कि सौमेन्दु कुछ पार्षदों और तृणमूल कांग्रेस के 5,000 कार्यकर्ताओं के साथ दिन में भगवा पार्टी में शामिल होंगे. उन्होंने कहा कि तर्णमूल कांग्रेस जल्द ही ढह जाएगी.Also Read - मॉनसून सत्र में हुए हंगामे पर कड़ी कार्रवाई, कांग्रेस, शिवसेना समेत इन पार्टियों के 12 राज्यसभा सांसद सस्पेंड; देखें List

अपने भाई के भाजपा में शामिल होने के बारे में तृणमूल कांग्रेस के स्थापना दिवस के अवसर पर कहा ,‘‘ मेरा छोटा भाई सौमेन्दु कोन्टाई में आज भाजपा में शमिल होगा. उसके साथ कई पार्षद और तृणमूल कांग्रेस के जमीनी स्तर के 5,000 कार्यकर्ता होंगे. तृणमूल कांग्रेस शीघ्र ही ढह जाएगी.’’ Also Read - किस मॉडल पर देश का सर्वांगीण और समावेशी विकास है संभव, अमित शाह ने बताया

Also Read - Covid-19 New Variant Omicron: नए वैरिएंट ने मचाई दहशत, पीएम मोदी की अहम बैठक, सतर्कता बरतने का दिया निर्देश

गौरतलब है कि सौमेन्दु ने बृहस्पतिवार को कहा था कि हर घर में कमल खिलेगा. इससे यह संकेत मिल रहे थे कि वह अपने भाई के नक्शे कदम पर चलते हुए भाजपा में शामिल हो सकते हैं. अधिकारी के परिवार के दो लोग दिव्येंन्दु और शिशिर तृणमूल कांग्रेस में हैं.

भाजपा नेता ने दावा किया कि आठ जनवरी को यहां होने वाली उनकी रैली में कम से कम एक लाख लोग शामिल होंगे. उन्होंने अपने समर्थकों से कहा,‘‘ अगर रैली स्थल तक पहुंचने में किसी को भी किसी भी प्रकार की बाधा आए ,तो वह मुझे फोन कर सकता है.’’

उन्होंने कहा,‘‘ तृणमूल कांग्रेस के असामाजिक तत्वों ने 29 दिसंबर को एक धार्मिक कार्यक्रम में हिस्सा लेने जा रहे श्रद्धालुओं पर हमला किया था . उनके वाहनों पर सनातन हिंदू धर्म संस्थान के झंड़े लगे हुए थे. हमलावरों को सबक सिखाया जाएगा.’’

कारोबारी विनय मिश्रा के कोलकाता स्थित दो आवासों पर बहस्पतिवार को सीबीआई के छापों पर उन्होंने कहा ,‘‘एजेंसी मामले में शामिल एक दिग्गज के दरवाजे पर शीघ्र ही दस्तक देगी. जरा इंतजार कीजिए…..’’ मिश्रा को कथित तौर पर तृणमूल कांग्रेस का करीबी माना जाता है. यह मामला भारत बांग्लादेश सीमा पर मवेशियों की तस्करी से जुड़ा है.