अयोध्या/प्रतापगढ़: उत्तर प्रदेश में गोलीबारी की दो अलग-अलग घटनाओं में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के एक नेता व एक समाजवादी पार्टी (सपा) के नेता की हत्या हो गई. इससे राज्य की खस्ताहाल कानून व्यवस्था की स्थिति उजागर होती है. सोमवार शाम को अज्ञात बाइक सवार हमलावरों ने प्रतापगढ़ में विहिप के जिला अध्यक्ष व वकील प्रणव मिश्रा की गोली मारकर हत्या कर दी, जबकि अयोध्या के कनकपुर गांव में स्थानीय सपा नेता अखिलेश यादव की गोली मारकर हत्या कर दी गई.

राज्यसभा से इस्तीफा देकर सपा नेता नीरज शेखर भाजपा में शामिल, पीएम मोदी से की मुलाकात

बाइक सवार अज्ञात हमलावरों ने अखिलेश पर कई राउंड गोलियां चलाईं और फरार हो गए. रिपोर्ट के अनुसार, प्रणव मिश्रा जिला न्यायालय में काम करते थे. वह न्यायालय जा रहे थे, उसी दौरान कुछ हथियारबंद लोगों ने उन्हें गोली मार दी. प्रतापगढ़ पुलिस अधीक्षक को घटना के बाद पद से हटा दिया गया है और उनकी जगह अभिषेक सिंह ने ली है.

BJP ने दो राज्‍यों के नए प्रदेश अध्‍यक्ष नियुक्‍त किए, स्वतंत्र देव सिंह को यूपी की जिम्‍मेदारी

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) व सपा ने हत्याओं की निंदा की है और हमलावरों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग की है. मिश्रा के दोस्त व वकील आरिफ खान ने कहा, “वकीलों की हत्या 2014 से हो रही है और अब तक सात वकीलों की हत्या की जा चुकी है. पुलिस इस पर चुप है और हत्यारों की सख्ती से जांच नहीं हो रही है.”