नई दिल्ली: राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को ईस्टर के मौके पर श्रीलंका में हुए आत्मघाती विस्फोटों में बड़ी संख्या में लोगों के मारे जाने की घटना की निंदा की और कहा कि श्रीलंका के साथ भारत एकजुटता के साथ खड़ा है.

 

 

कोविंद ने ट्वीट किया कि श्रीलंका में हुए आत्मघाती हमलों की भारत निंदा करता है और श्रीलंका की जनता और सरकार के प्रति संवेदना व्यक्त करता है. उन्होंने कहा कि निर्दोष लोगों को निशाना बनाने वाले ऐसे निर्थक हिंसा का सभ्य समाज में कोई स्थान नहीं है. हम श्रीलंका के साथ पूरी एकजुटता के साथ खड़े हैं. मोदी ने कहा कि श्रीलंका में हुए भयावह विस्फोटों की कड़ी निंदा करता हूं. हमारे क्षेत्र में इस तरह की बर्बरता के लिए कोई जगह नहीं है. भारत श्रीलंका के लोगों के साथ एकजुटता से खड़ा है. शोक संतप्त परिवारों के साथ मेरी संवेदना और घायलों के साथ प्रार्थना है. कोलंबो और अन्य स्थानों पर रविवार को ईस्टर के मौके पर चर्चो और होटलों में विस्फोट हुआ.

 

विस्‍फोट में मरने वालों की संख्‍या बढ़कर 187 हुई, 450 से ज्यादा घायल
श्रीलंका में रविवार को आतंकी हमलों ने कहर बरपा दिया है. द्वीप राष्ट्र में यह अभी तक का सबसे भयावह हमला है. तीन गिरजाघरों और तीन होटलों में एक के बाद एक हुए विस्फोटों मरने वालों की संख्या बढ़कर 187 हो गई और 450 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं. न्‍यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक, 35 से अधि‍क विदेशी नागरिकों की मौत हुई है.

श्रीलंका में सीरियल बम ब्‍लास्‍ट: अब तक 187 लोगों की मौत, 450 से ज्यादा घायल

अधिकारियों ने यह जानकारी दी. मृतकों में करीब नौ विदेशी शामिल हैं. पुलिस प्रवक्ता रूवन गुनासेखरा ने बताया कि ये विस्फोट स्थानीय समयानुसार 8:45 बजे ईस्टर प्रार्थना सभा के दौरान कोलंबो के सेंट एंथनी चर्च, पश्चिमी तटीय शहर नेगेम्बो के सेंट सेबेस्टियन चर्च और बट्टिकलोवा के एक चर्च में हुए. वहीं, अन्य तीन विस्फोट पांच सितारा होटलों – शंगरीला, द सिनामोन ग्रांड और द किंग्सबरी में हुए. होटल में हुए विस्फोट में घायल विदेशी और स्थानीय लोगों को कोलंबो जनरल हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया है. (इनपुट एजेंसी)

श्रीलंका सीरियल बम धमाके: भारतीयों की मदद के लिए जारी किए गए हेल्पलाइन नंबर