रामेश्वरम: श्रीलंकाई नौसेना पर आरोप है कि उसने तमिलनाडु के कच्चातीवू के निकट मछली पकड़ रहे तमिलनाडु राज्य के निवासी 3,300 से अधिक भारतीय मछुआरों को कथित तौर पर खदेड़ दिया. एक स्थानीय मछुआरा संगठन के नेता ने गुरूवार को यह जानकारी देते हुए कहा कि जब वे रात को भारतीय समुद्र तट की सीमा के अंदर ही मछलियां पकड़ रहे थे उस समय नौकाओं पर सवार श्रीलंका नौसेना के जवानों ने उन्हें वहां से खदेड़ दिया. इससे पहले भी भारतीय मछुआरे श्रीलंकन नेवी पर ये आरोप लगाते रहे हैं. पिछले 3 दिन के अंदर ये दूसरी बार हुआ है, इसी सप्ताह मंगलवार को भी श्रीलंका की नौसेना ने करीब 4 हजार मछुआरों को मछली पकड़ने से रोकते हुए भगा दिया था.

भारतीय सेना और पाकिस्तानी सैनिकों के बीच एलओसी पर भारी गोलीबारी

मछली पकड़ने वाले जालों को छीन लिया
रामेश्वरम मछुआरा संगठन के अध्यक्ष एस एमेरिट ने इस घटना के बाबत जानकारी देते हुए बताया कि रामेश्वरम शहर के मछुआरे बुधवार की रात 540 से अधिक मशीनीकृत नौकाओं में सवार होकर कच्चातीवू के निकट मछली पकड़ रहे थे उनका कहना है कि वो भारतीय समुद्री सीमा के भीतर थे, उसी समय श्रीलंका की नौसेना के जवान पांच नौकाओं में सवार होकर वहां पहुंचे और मछुआरों को खदेड़ दिया. उन्होंने श्रीलंका की नौसेना पर 20 नौकाओं के मछली पकड़ने वाले जालों को छीनने का भी आरोप लगाया.

सिद्धू के वीडियो की हकीकत: वीडियो से छेड़छाड़ के आरोप पर जी न्यूज ने कांग्रेस की बोलती बंद की

उन्होंने बताया कि इस घटना के बाद मछुआरे बिना मछली पकड़े ही तटों पर लौट आए. गौरतलब है कि चार दिसंबर को भी श्रीलंका की नौसेना पर ये आरोप लगाए गए थे. मंगलवार 4 दिसम्बर को भी श्रीलंकाई नौसेना के जवानो ने  तमिलनाडु के 4 हजार से अधिक मछुआरों को कथित तौर पर मछली पकड़ने से रोकते हुए खदेड़ा था. मछुआरा संगठन का आरोप है कि श्रीलंका की नौसेना के इस कृत्य से उनकी आजीविका खतरे में पड़ रही है. उन्होंने स्थानीय जन प्रतिनिधियों से इस संकट के समाधान के लिए उनकी बात उच्च स्तर तक पहुंचाने की गुहार लगाई. (इनपुट एजेंसी)