श्रीनगर: जम्मू एवं कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और लोकसभा सदस्य फारूक अब्दुल्ला ने रविवार को यहां कहा कि जिस दिन भारत और पाकिस्तान में दोस्ती हो जाएगी, कश्मीर का मुद्दा खुद ब खुद सुलझ जाएगा. जम्मू एवं कश्मीर के बारामुला जिले मे मीडिया को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, “नेशनल कांफ्रेंस ने भारत और पाकिस्तान के बीच हमेशा दोस्ताना संबंध का समर्थन किया है.

पंडितों के बगैर कश्मीर है अधूरा: फारूक अब्दुल्ला

फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि जिस दिन दोनों देश सच्चे दोस्त बन जाएंगे, कश्मीर का मामला खुद ब खुद सुलझ जाएगा. उन्होंने कहा कि राज्य का वह भाग जिसपर पाकिस्तान शासन करता है, वह पड़ोसी देश का है, और बाकी का हिस्सा भारत का है. यह पूछे जाने पर कि जब नेशनल कांफ्रेंस सत्ता में आएगी तो क्या पार्टी आंतरिक स्वायत्तता की मांग के अलावा कोई और प्रस्ताव पेश करेगी?

फारुख अब्दुल्ला ने कहा- 35 ए-370 पर केंद्र स्पष्ट करे रुख, नहीं तो विधानसभा-लोकसभा चुनाव का भी करेंगे बहिष्कार

उन्होंने कहा कि केंद्र-राज्य संबंधों की बेहतरी के लिए स्वायत्तता उनकी पार्टी का एक मात्र प्रस्ताव है. उन्होंने इस बात को खारिज कर दिया कि केंद्र सरकार ने स्वायत्तता की मांग को ठुकरा दिया है. अब्दुल्ला ने कहा, “केंद्र इस मांग को खारिज नहीं कर सकती, क्योंकि राज्य के लोगों के पास संविधान के अंतर्गत ऐसी मांग करने का पूरा अधिकार है.