कश्मीर: 70 साल में पहली बार इस महीने खुला रहा श्रीनगर-लेह राजमार्ग, कम हो रही कश्मीर-लद्दाख के बीच की दूरी

श्रीनगर-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग, जो हर साल नवंबर से अप्रैल तक वाहनों के यातायात के लिए बंद रहता था, इस साल जनवरी में भी खुला है.

Published: January 6, 2022 10:32 PM IST

By India.com Hindi News Desk | Edited by Zeeshan Akhtar

कश्मीर: 70 साल में पहली बार इस महीने खुला रहा श्रीनगर-लेह राजमार्ग, कम हो रही कश्मीर-लद्दाख के बीच की दूरी

श्रीनगर/नई दिल्ली: श्रीनगर-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग, जो हर साल नवंबर से अप्रैल तक वाहनों के यातायात के लिए बंद रहता था, इस साल जनवरी में भी खुला है, क्योंकि सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) को अत्याधुनिक स्नो कटर और अन्य मशीनरी से लैस किया गया है. 70 साल में पहला मौका है जब ये मार्ग जनवरी में भी खुला हुआ है. बीआरओ के लिए सबसे बड़ी चुनौती श्रीनगर-सोनमर्ग-गुमरी रोड पर 11,643 फीट की ऊंचाई पर स्थित रणनीतिक जोजिला र्दे को खुला रखना है. इस बार बीआरओ ने दिसंबर के बाद भी इसे खुला रखकर इतिहास रच दिया है.

Also Read:

2021 में जोजिला सुरंग, जो श्रीनगर-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग को हर मौसम में एक चलने वाली सड़क में बदल देगी, के काम में अच्छी प्रगति देखी गई है. अधिकारियों के मुताबिक, जोजिला टनल पर अब तक करीब 25 फीसदी खुदाई का काम पूरा हो चुका है. सुरंग के निर्माण में कार्यरत लोग सभी बाधाओं और मौसम की अनिश्चितताओं का सामना करते हुए काम पर जुटे हुए हैं, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि परियोजना समय पर पूरी हो. 18 किलोमीटर लंबी जोजिला सुरंग के 2023 तक पूरा होने की उम्मीद है. यह एशिया की सबसे लंबी द्विदिश (बाइडिरेक्शनल) सुरंग होगी.

28 सितंबर, 2021 को केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने जोजिला सुरंग परियोजना की प्रगति की समीक्षा की थी और इस सुरंग के निर्माण के लिए काम करने वाली निर्माण कंपनी मेघा इंजीनियरिंग एंड इंफ्रास्ट्रक्च र लिमिटेड की सराहना की थी. गडकरी ने कार्य की गति पर संतोष व्यक्त किया था और सुरंग पर काम पूरा होने तक रणनीतिक राजमार्ग को और अधिक महीनों तक खुला रखने के प्रयास करने की आवश्यकता पर जोर दिया था.

श्रीनगर-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग को दिसंबर के बाद यातायात के लिए खुला रखना बीआरओ के लिए आसान काम नहीं रहा है. जोजिला दर्रा ठंड के तापमान और ऑक्सीजन की कमी और लगातार हिमस्खलन की अनूठी चुनौतियों का सामना करता है. वर्तमान में, 20 से अधिक हैवी-ड्यूटी स्नो कटर को सेवा में लगाया गया है और बीआरओ के जवान मिशन इम्पॉसिबल को संभव बनाने के लिए चौबीसों घंटे काम कर रहे हैं. इन प्रयासों के तहत कश्मीर और लद्दाख अब हर मौसम में खुलने की राह पर हैं. 5 अगस्त, 2019 के बाद – जब केंद्र ने जम्मू-कश्मीर की विशेष स्थिति को समाप्त कर दिया और इसे दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित कर दिया – जम्मू और कश्मीर ने जीवन के हर क्षेत्र में प्रगति देखी है. कश्मीर और लद्दाख क्षेत्र, जिन्हें लैंडलॉक क्षेत्र माना जाता था, अब खुल रहे हैं और पूरे साल देश के बाकी हिस्सों से जुड़े रहने के लिए तैयार हैं.

1947 से, श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग सर्दियों के महीनों में अवरुद्ध होने के कारण चर्चा में बना हुआ था, लेकिन इस साल यह खुला रहा. बनिहाल को काजीगुंड से जोड़ने वाली नवनिर्मित नईग सुरंग ने यात्रियों के लिए यात्रा को आसान बना दिया है. जम्मू और श्रीनगर के बीच यात्रा के समय को कम करने के अलावा, सुरंग ने लोगों को हिमस्खलन संभावित क्षेत्रों से गुजरने से बचाया है. चेनानी-नाशरी सुरंग ने भी श्रीनगर को जम्मू के करीब ला दिया है. श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग पर रामबन से बनिहाल के बीच का काम जोरों पर चल रहा है और एक बार यह पूरा हो जाने के बाद कश्मीर का देश के बाकी हिस्सों से अलग होना एक इतिहास बन जाएगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र ने पिछले सात वर्षों के दौरान ईमानदारी से प्रयास किए हैं. केंद्र में पूर्व सरकारें कश्मीर को पूरी तरह से भारत संघ के साथ एकीकृत करने के लिए कई प्रस्ताव लेकर आए, लेकिन वह योजनाओं को क्रियान्वित करने में विफल रहीं. नई दिल्ली की वर्तमान सरकार ने निस्संदेह जमीनी स्तर पर काम करते हुए सुनिश्चित किया है कि कश्मीर और लद्दाख क्षेत्रों को हर संभव सुविधाएं मिले.

विशेष दर्जे को खत्म करने से भी कुछ सकारात्मक चीजें देखने को मिली हैं. जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को खत्म करने से हिमालयी क्षेत्र के भारत संघ में पूर्ण एकीकरण का मार्ग प्रशस्त हुआ है. जम्मू-कश्मीर का देश के अन्य हिस्सों की तरह बनना जम्मू-कश्मीर के आम आदमी के लिए फायदे का सौदा साबित हुआ है. वर्षों पहले की बात देखें तो जम्मू-कश्मीर के निवासियों को उन लाभों से वंचित रखा गया, जिनके वे हकदार थे. परियोजनाएं कागजों तक ही सीमित रह गईं. 2019 के बाद, केंद्र ने इन परियोजना रिपोटरें पर काम किया है और यह सुनिश्चित किया है कि जम्मू-कश्मीर के लोगों से किए गए वादे पूरे हों. कई विकास परियोजनाएं जो अधर में थीं या अधूरी थीं, वे वास्तविकता बन गई हैं और कई और योजनाएं अगले कुछ वर्षों में सामने आने की संभावना है.

कश्मीर से कन्याकुमारी के लिए ट्रेन का सफर हकीकत बनने के लिए पूरी तरह तैयार है. कटरा और बनिहालटू के बीच रेलवे का काम अपने अंतिम चरण में है. कनेक्टिविटी को लेकर काम जोरों पर है और वर्तमान सरकार यह सुनिश्चित करने में कोई कसर नहीं छोड़ रही है कि कश्मीर और लद्दाख क्षेत्र हमेशा के लिए जुड़ जाएं.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें देश की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Published Date: January 6, 2022 10:32 PM IST