श्रीनगर: अपने पहले आधिकारिक दौरे पर जम्मू कश्मीर आए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को सुरक्षा स्थिति की समीक्षा की. अधिकारियों ने बताया कि प्रोटोकॉल से हटते हुए राज्यपाल सत्यपाल मलिक अपने सलाहकारों और राज्य प्रशासन के कुछ आला अधिकारियों के साथ हवाई अड्डे पर शाह की अगवानी की.Also Read - महबूबा मुफ्ती का बड़ा ऐलान, 'जम्मू-कश्मीर का आगामी विधानसभा चुनाव लड़ेगी पीडीपी'

Also Read - PM Modi’s 71st Birthday: 71 साल के हुए प्रधानमंत्री मोदी, राष्‍ट्रपति, अमित शाह ने दी बधाई, BJP का सेवा-समर्पण अभियान आज से

पूर्व में आम तौर पर प्रधानमंत्री के राज्य के दौरे पर आने पर राज्यपालों ने उनकी अगवानी की थी. अधिकारियों ने बताया कि दो दिवसीय दौरे के लिए यहां पहुंचने के तुरंत बाद केंद्रीय मंत्री ने नागरिक प्रशासन के अधिकारियों और राज्य में विभिन्न सुरक्षा एजेंसियों के शीर्ष अधिकारियों के साथ उच्च स्तरीय बैठक की. मलिक, गृह मामलों के उनके सलाहकार प्रभारी के. विजय कुमार, गृह सचिव राजीव गौबा, राज्य के मुख्य सचिव बी वी आर सुब्रमण्यम, उत्तरी सैन्य कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल रनबीर सिंह, डीजीपी दिलबाग सिंह और घाटी तथा जम्मू के संभागीय आयुक्त बैठक में मौजूद थे. Also Read - अगर BJP हमारे साथ चुनाव लड़े तो BSP के लिए बड़ा झटका हो सकता है: RPI नेता रामदास अठावले

गृह मंत्री को राज्य में सुरक्षा स्थिति, खासकर पुलवामा आतंकी हमले के बाद के हालात के बारे में अवगत कराया गया. अधिकारियों ने शाह को शीर्ष आतंकी नेतृत्व के सफाए के लिए चलाए गए विभिन्न कदमों के बारे में बताया. शाह को एक जुलाई से शुरू हो रही वार्षिक अमरनाथ यात्रा के सफल आयोजन के लिए उठाए जाने वाले कदमों से भी वाकिफ कराया गया. उन्होंने बताया कि गृह मंत्री दक्षिण कश्मीर हिमालय में अमरनाथ की पवित्र गुफा की यात्रा करेंगे. वह राज्य में आतंकी हमले में मारे गए पुलिसकर्मियों के परिवारों से भी मिलेंगे. (इनपुट एजेंसी)