अहमदाबाद: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को कहा कि गुजरात में स्थित ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’ पर अमेरिका की ‘स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी’ से अधिक पर्यटक आते हैं. उन्होंने कहा कि दो साल पहले स्टेच्यू ऑफ यूनिटी को खोले जाने के बाद से लगभग 50 लाख पर्यटक इसके दीदार के लिये आ चुके हैं. मोदी ने देश के विभिन्न हिस्सों को केवड़िया से जोड़ने वाली आठ ट्रेनों को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये हरी झंडी दिखाने के बाद अपने संबोधन में कहा कि एक सर्वे के अनुसार कनेक्टिविटी (संपर्क सुविधाएं) बढ़ने से रोजाना एक लाख से अधिक लोग केवड़िया आ सकेंगे.Also Read - गुजरात के राजकोट में महिला ने थाने में की खुदकुशी, पुलिस कर रही मामले की जांच

मोदी ने अक्टूबर 2018 में सरदार वल्लभभाई पटेल की 143वीं जयंती के मौके पर दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा कही जाने वाली स्टेच्यू ऑफ यूनिटी का उद्घाटन किया था. मोदी ने कहा कि नयी रेल कनेक्टिविटी से स्टेच्यू ऑफ यूनिटी आने वाले पर्यटकों के अलावा स्थानीय निवासियों को भी बहुत फायदा होगा. वहीं इस क्षेत्र में स्थित कुछ स्थानों पर आने वाले तीर्थयात्रियों को भी केवड़िया आने वाली इन नयी ट्रेनों का लाभ मिलेगा. Also Read - थॉमस कप-उबर कप विजेताओं से PM नरेंद्र मोदी ने की मुलाकात, बेहद मजेदार रहा सेशन, Watch VIDEO

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘केवड़िया अब गुजरात के एक सुदूर इलाके में स्थित छोटा सा क्षेत्र नहीं रह गया है बल्कि दुनिया के सबसे बड़े पर्यटन स्थल के रूप में उभर रहा है. स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी के मुकाबले स्टेच्यू ऑफ यूनिटी को देखने अधिक लोग आ रहे हैं. इसके उद्घाटन के बाद से लगभग 50 लाख लोग यहां आ चुके हैं.’ मोदी ने कहा, ‘कोरोना वायरस के दौरान महीनों तक सबकुछ बंद रहने के बावजूद केवड़िया आने वाले पर्यटकों की संख्या में तेजी से वृद्धि हो रही है.’ Also Read - वंशवाद को लेकर कांग्रेस का भाजपा पर पलटवार, गोविंद डोटासरा ने पूछा- राजनाथ के बेटे को टिकट किसने दिया ?

प्रधानममंत्री ने कहा, ‘एक सर्वे में अनुमान लगाया गया है कि कनेक्टिविटी बढ़ने से प्रतिदिन एक लाख से अधिक लोग केवड़िया आ सकेंगे. छोटा सा, खूबसूरत सा केवड़िया पर्यावरण की रक्षा करते हुए अर्थव्यवस्था और पारिस्थितिकी दोनों को योजनाबद्ध तरीके से कैसे विकसित जा सकता है, इसकी एक शानदार मिसाल है.’

उन्होंने कहा, ‘इस रेल कनेक्टिविटी का लाभ न केवल स्टेच्यू ऑफ यूनिटी आने वाले यात्रियों को मिलेगा बल्कि इससे केवड़िया के निवासियों के जीवन में भी बदलाव आएगा. इससे रोजगार तथा स्वरोजगार के नए अवसर पैदा होंगे.’

मोदी ने कहा, ‘यह रेल लाइन करनाली, पोइचा और गुरुदेश्वर जैसे आस्था के महत्वपूर्ण केन्द्रों को भी जोड़ेगी और यह सच है कि पूरा क्षेत्र आध्यात्मिकता के भाव से भर जाएगा. यह सुविधा आमतौर पर आध्यात्मिक कारणों से यहां आने वालों के लिये बड़ा उपहार है. ‘