नई दिल्ली: गोरखपुर के डॉक्टर कफील खान (Dr. Kafeel Khan) और उलेमा काउंसिल के राष्ट्रीय महासचिव ताहिर मदनी की रिहाई की मांग करते हुए यहां उत्तर प्रदेश भवन की ओर मार्च निकाल रहे छात्रों के एक समूह को गुरूवार को दिल्ली पुलिस ने हिरासत में ले लिया. Also Read - केरल सरकार का बड़ा फैसला, नागरिकता कानून और सबरीमाला मामले को लेकर प्रदर्शनकारियों के खिलाफ मुकदमे वापस होंगे

मदनी को पांच फरवरी को आजमगढ़ में इस आरोप में गिरफ्तार किया गया था कि वह संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) विरोधी जिन प्रदर्शनकारियों की अगुवाई कर रहे थे, उन्होंने हिंदुओं तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया. वहीं, कफील खान को संशोधित नागरिकता कानून (Citizenship Amendment Act) के खिलाफ 12 दिसंबर को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (Aligarh Muslim University) में प्रदर्शन के दौरान दिए गए भाषण में धर्मों के बीच कथित रूप से शत्रुता को बढ़ावा देने के आरोप में पकड़ा गया था. Also Read - VIDEO: राहुल गांधी ने कहा- 'हम दो-हमारे दो' अच्छी तरह सुन लें, असम को कोई नहीं बांट पाएगा, CAA नहीं होगा

गोरखपुर कांड: डॉ. कफील को क्लीन चिट, योगी सरकार ने भी माना- बच्चों के लिए की थी ऑक्सीजन सिलिंडर की व्यवस्था Also Read - अमित शाह का बड़ा बयान, कोविड-19 टीकाकरण समाप्त होने के बाद लागू किया जाएगा CAA

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) के अधिकारियों ने कहा कि प्रदर्शनकारियों ने उत्तर प्रदेश भवन की ओर मार्च निकालते हुए राज्य सरकार के खिलाफ नारेबाजी की. उन्हें हिरासत में लिया गया और मंदिर मार्ग थाने ले जाया गया. हालांकि एक अन्य समूह सीएए और एनआरसी के खिलाफ पोस्टर लेकर उत्तर प्रदेश भवन के पास पहुंच गया. पुलिस के मुताबिक उन्हें भी हिरासत में ले लिया गया और पास के थाने में ले जाया गया.