नई दिल्ली. बिहार के भागलपुर में पिछले हफ्ते हुए सांप्रदायिक हिंसा पर राज्यसभा सांसद और बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार से पूछा जाना चाहिए कि वहां क्या हो रहा है? पुलिस क्या कर रही है. पुलिस के पास वारंट है. उन्हें आगे बढ़ना चाहिए और आरोपी को गिरफ्तार करना चाहिए. बता दें कि हिंसा को भड़काने के मामले में केंद्रीयमंत्री अश्विनी चौब के बेटे अरिजित शाश्वत सहित 9 लोगों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया था. Also Read - सुब्रमण्यम स्वामी का सवाल- सुशांत केस को बंद करने के लिए मुंबई में इतनी जल्दबाजी क्यों?

बता दें कि अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट (एसीजेएम) अंजनी कुमार श्रीवास्तव ने नाथनगर पुलिस की ओर से दायर अर्जी पर शनिवार को ही वारंट जारी किया था. पुलिस ने इस मामले में दर्ज दो एफआईआर में से एक में शामिल नौ लोगों की गिरफ्तारी की मांग की थी. Also Read - सुशांत मामले पर सुब्रमण्यम स्वामी ने उठाए ये 5 अहम सवाल, स्वास्थ्य सचिव से की बात  

ये कहते हैं अरिजित शाश्वत
इस बीच अरिजित शाश्वत का कहना है, ‘मैं फरार नहीं है. खोजना उन्हें पड़ता है, जो गायब हो गए हों. मैं समाज के बीच हूं. कोर्ट ने गिरफ्तारी वारंट जारी किया है, लेकिन कोर्ट ने ही सुरक्षा दी है. मैं सरेंडर क्यों करूं? एक बाद आप कोर्ट चले जाते हैं तो आप वही कर पाते हैं जो आपके लिए तय किया जाता है. पुलिस गिरफ्तार करने आती है तो मैं वही करूंगा जो पुलिस कहेगी. मैं एंटीसिपेटरी बेल के लिए अप्लीकेशन देने वाला हूं.’ Also Read - सुब्रमण्यम स्वामी की नाराजगी पर भी क्यों भाव नहीं दे रही बीजेपी, जानें क्या है वजह

पुलिस को मिली कोर्ट की कॉपी
भागलपुर के एसएसपी मनोज कुमार ने बताया कि पुलिस को कोर्ट के आदेश की प्रति मिल चुकी है और सभी आरोपियों को जल्द गिरफ्तार किया जाएगा. बता दें कि बीते 17 मार्च को भागलपुर में प्रशासन की इजाजत के बिना झांकी निकालने के मामले में दर्ज केस में अरिजित को नामजद किया गया है.

बता दें कि हिंदू नव वर्ष की पूर्वसंध्या पर भारतीय नव वर्ष जागरण समिति की ओर से झांकी निकाली गई थी. इसके कारण जिले के नाथनगर पुलिस थाना क्षेत्र में सांप्रदायिक तनाव फैल गया था. इस घटना में दो पुलिसकर्मी सहित कुछ अन्य लोग जख्मी हुए थे.