नई दिल्ली: पत्नी सुनंदा पुष्कर मौत मामले में आरोपी कांग्रेस नेता शशि थरूर ने दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका दाखिल की है. थरूर को 7 जुलाई को कोर्ट में पेश होना है. दिल्ली पुलिस ने 14 मई को तिरुवनंतपुरम से लोकसभा सदस्य थरूर पर सुनंदा को आत्महत्या के लिये उकसाने का आरोप लगाया था. पटियाला हाउस कोर्ट ने उन्हें आरोपी मानते हुए समन जारी किया है. कोर्ट ने थरूर को आरोपी के रूप में 7 जुलाई को पेश होने को कहा है. अदालत ने कहा था कि सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में शशि थरूर के खिलाफ अपराध के आरोप में कार्रवाई शुरू करने का पर्याप्त आधार है.

बुराड़ी में 11 लोगों की मौत का मामला: ललित भाटिया कहता था मेरे अंदर पिता की आत्मा, दिखाती है रास्ता

बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने अदालत में याचिका दायर करके सुनंदा पुष्कर मौत मामले में सतर्कता जांच की रिपोर्ट पेश करने के लिए दिल्ली पुलिस को निर्देश देने का अनुरोध किया था. आवेदन में कहा गया था कि दिल्ली पुलिस आयुक्त के आदेश पर हुई सतर्कता जांच की रिपोर्ट में इस मामले की जांच में विभिन्न गंभीर खामियों पर प्रकाश डाला गया है. स्वामी ने इस मामले में अभियोजन की मदद के लिए अदालत की मंजूरी भी मांगी थी. बता दें, सुनंदा 17 जनवरी 2014 की रात को दक्षिण दिल्ली के एक आलीशान होटल के कमरे में मृत मिली थीं.

पीएम के फिटनेस वीडियो पर खर्च को लेकर थरूर और राठौड़ के बीच ट्विटर वॉर

वहीं कांग्रेस नेता शशि थरूर ने अदालत द्वारा अपनी पत्नी सुनंदा पुष्कर की मौत के मामले में खुद को सम्मन जारी किए जाने के तुरंत बाद कहा था कि उनके खिलाफ आरोप निरर्थक और निराधार हैं और ये दुर्भावनापूर्ण और प्रतिशोध की भावना से प्रेरित हैं. उन्होंने कहा था कि वह इनका जोरदार ढंग से सामना करना जारी रखेंगे. थरूर ने एक बयान में कहा कि उनका दृढ़ विश्वास है कि अंतत: न्यायिक प्रणाली के जरिए सच सामने आएगा.

उन्होंने कहा था कि मैं अपनी स्थिति दोहराना चाहूंगा कि आरोप निरर्थक और निराधार हैं और ये दुर्भावनापूर्ण और प्रतिशोध की भावना से प्रेरित हैं. मैं आरोपों का जोरदार ढंग से सामना करना जारी रखूंगा. मेरा यह दृढ़ विश्वास है कि अंतत: न्यायिक प्रणाली के जरिए सच सामने आएगा. उन्होंने मीडिया से आग्रह किया कि वह उनके और उनके परिवार की निजता के अधिकार का सम्मान करे क्योंकि मामला विचाराधीन है.