Shashi Tharoor delhi

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने गुरुवार को कांग्रेस सांसद शशि थरूर से उनकी पत्नी सुनंदा पुष्कर की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत के मामले में फिर पूछताछ की। इस दौरान पुलिस ने उनसे यह जानने की कोशिश की कि कहीं आईपीएल की टीम फ्रेंचाइची कोच्चि टस्कर्स की हिस्सेदारी में सुनंदा सिर्फ अपने पति का चेहरा तो नहीं थीं! थरूर और उनके घरेलू सहायक नारायण सिंह तथा चालक बजरंगी सहित पांच लोगों को विशेष जांच दल (एसआईटी) ने पूछताछ के लिए दक्षिणी दिल्ली के वसंत बिहार स्थित एंटी ऑटो थेफ्ट स्क्वायड (एएटीएस) कार्यालय में बुलाया था।

इस साल एक जनवरी को सुनंदा की संदेहास्पद परिस्थितियों में मौत पर हत्या की प्राथमिकी दर्ज करने के बाद इसकी जांच के लिए पुलिस ने एसआईटी का गठन किया है।

थरूर को विशेष जांच दल (एसआईटी) की जांच में बुधवार को शामिल होने के लिए कहा गया था और गुरुवार पूर्वाह्न 11.30 बजे उनसे पूछताछ की गई।

वह पहले दक्षिण दिल्ली के सरोजिनी नगर पुलिस थाने पहुंचे, वहां से उन्हें वसंत विहार के एंटी ऑटो थेफ्ट स्क्वायड (एएटीएस) कार्यालय ले जाया गया, जहां उनसे पूछताछ की गई।

सुनंदा पुष्कर मौत मामले में शशि थरूर से फिर पूछताछ
एसआईटी की एक टीम ने थरूर से इससे पहले 19 जनवरी को (एएटीएस) कार्यालय में करीब चार घंटे तक पूछताछ की थी।

पुलिस उपायुक्त प्रेमनाथ और अतिरिक्त उपायुक्त पी.एस. कुशवाहा सहित पांच अधिकारियों की एसआईटी की टीम ने थरूर से कई सवाल पूछे थे, जिसमें आईपीएल की कोच्चि टीम के संबंध में सवाल शामिल था।

आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) के पुलिस उपायुक्त मंगेश कुशवाहा पहली बार पूछताछ टीम में शामिल हुए।

सूत्रों के अनुसार, कश्यप ने थरूर से कोच्चि टस्कर्स की हिस्सेदारी को लेकर सवाल पूछ कर यह जानने की कोशिश की कि क्या कोच्चि टीम की फ्रेंचाइजी से 75 करोड़ रुपये का शेयर सुनंदा ने उनकी तरफ से लिया था।

आईपीएल विवाद 2010 की शुरुआत में सामने आया था, जब थरूर विदेश राज्यमंत्री थे।

थरूर के घरेलू नौकर नारायण सिंह और चालक बजरंगी से भी पूछताछ की गई।

पुलिस ने नारायण से दो बार और बजरंगी से एक बार पूछताछ की है।

दिल्ली पुलिस आयुक्त बी.एस. बस्सी ने गुरुवार को कहा, “पिछली पूछताछ में थरूर के दिए जवाब का परीक्षण करने के बाद, हमने उनसे फिर पूछताछ की। थरूर के कुछ सहयोगियों से भी पूछताछ के लिए आने को कहा गया है।”

पुलिस ने इस साल एक जनवरी को मामला दर्ज करने के बाद घटना की जांच के लिए एसआईटी का गठन किया था।

सुनंदा का शव 17 जनवरी, 2014 को दिल्ली के होटल लीला पैलेस में मिला था।

एसआईटी ने अब तक थरूर और उनके कर्मचारियों, दोनों पति-पत्नी के करीबी मित्रों और होटल लीला पैलेस के कर्मचारियों सहित सहित 15 लोगों से पूछताछ की है।

सुनंदा के बेटे शिव मेनन से एसआईटी ने पांच फरवरी को करीब आठ घंटे तक पूछताछ की थी।

पुलिस सूत्रों के अनुसार, मेनन से यह पूछा गया कि सुनंदा और थरूर का वैवाहिक संबंध कैसा था।

समाजवादी पार्टी (सपा) के पूर्व नेता अमर सिंह से 28 जनवरी को एसआईटी ने पूछताछ की थी।

दो पत्रकारों-नलिनी सिंह और राहुल कंवल भी एसआईटी के समक्ष उपस्थित हुए थे और उन्होंने यह स्वीकारा था कि सुनंदा ने मौत से पहले उन्हें फोन किया था और शशि थरूर और आईपीएल विवाद के संबंध में खुलासा करने की बात कही थी।

पुलिस ने राहुल और नलिनी से क्रमश: 22 और 23 जनवरी को पूछताछ की थी।