हैदराबाद. बुधवार को देश में चंद्र गहण है. बीएम बिड़ला विज्ञान केंद्र के निदेशक बी.जी सिद्धार्थ ने कहा है कि बुधवार को पड़ने वाला पूर्ण चंद्र ग्रहण भारत से दिखाई देगा जिसमें चंद्रमा लाल भूरा रंग लेगा जिसे ‘ब्लड मून’ भी कहा जाता है. केंद्र की एक विज्ञप्ति के अनुसार इस घटना को ब्लू मून और सुपर मून का भी नाम दिया गया है. 

Chandra Grahan 2018: जानिए आपके शहर में किस समय लगेगा चंद्रग्रहण, ये करें उपाय

Chandra Grahan 2018: जानिए आपके शहर में किस समय लगेगा चंद्रग्रहण, ये करें उपाय

Also Read - Chandra Grahan 2021 Important Things: 19 नवंबर को लगने जा रहा है साल का सबसे बड़ा चंद्र ग्रहण, जानें इससे जुड़ी अहम बातें

Also Read - Partial Lunar Eclipse 2019: भारत में इन जगहों पर दिखाई देगा आंशिक चंद्रग्रहण, मंदिरों में बदलेगा पूजा का समय

इस अद्भुत घटना को विस्तृत रूप से बताते हुए सिद्धार्थ ने कहा कि चंद्रग्रहण के दौरान पृथ्वी, सूर्य और चन्द्रमा के बीच में आ जाती है और पृथ्वी की छाया चांद पर पड़ती है. सिद्धार्थ ने कहा, ‘यदि तीनों लगभग एक ही रेखा पर आते है तो पूर्ण चंद्रग्रहण है. यहां तक कि पूर्ण चंद्रग्रहण के दौरान सूर्य की कुछ किरणें पृथ्वी के वायुमंडल के माध्यम से अपवर्तित होती है और चंद्रमा हल्की भूरी लाल चमक ले लेता है और यही 31 जनवरी को घटित होगा. कुछ लोग इसे ‘ब्लड मून’ भी कहते है.’ Also Read - Lunar Eclpise 2018: 3.49 पर समाप्त होगा चंद्रग्रहण, सुबह उठकर सबसे पहले करें ये 7 काम

केंद्र की विज्ञप्ति में कहा गया है कि पूर्ण चंद्रग्रहण को भारत के हरेक हिस्से में देखा जा सकता है. चंद्रग्रहण शाम पांच बजकर 20 मिनट पर शुरू होगा और मुख्य चन्द्रग्रहण सूर्यास्त के बाद लगभग छह बजकर 20 मिनट पर शुरू होगा. विज्ञप्ति में बताया गया है कि एक घंटे के बाद लगभग शाम सात बजकर 25 मिनट पर ग्रहण फीका पड़ने लगेगा और ग्रहण का मुख्य भाग समाप्त हो जायेगा.