नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम ने जस्टिस बीपी धर्माधिकारी को बंबई उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के तौर पर पदोन्नत करने की सिफारिश की है. न्यायमूर्ति धर्माधिकारी फिलहाल बॉम्‍बे हाईकोर्ट के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश के तौर पर काम कर रहे हैं. Also Read - सात महीने की हिरासत के बाद रिहा होंगे उमर अब्दुल्ला, जम्मू-कश्मीर सरकार ने जारी किए आदेश

यह फैसला प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे की अध्यक्षता वाले कॉलेजियम ने 24 फरवरी को हुई बैठक में किया. न्यायमूर्ति धर्माधिकारी को मंगलवार को हाईकोर्ट का कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया गया था. Also Read - Coronavirus: सुप्रीम कोर्ट भी लॉकडाउन, वकीलों के चैम्बर हुए बंद, जरूरी मामलों की ही होगी सुनवाई

न्यायमूर्ति भूषण प्रद्युम्न धर्माधिकारी का जन्म 28 अप्रैल 1958 को हुआ था. उन्होंने नागपुर विश्वविद्यालय से कानून की डिग्री हासिल की. इसे वर्तमान में राष्ट्र संत तुकडोजी महाराज विश्वविद्यालय के नाम से जाना जाता है. उन्होंने बार कॉउन्सिल ऑफ महाराष्ट्र में पंजीकरण के बाद अक्टूबर 1980 से नागपुर में वकालत की. Also Read - कोरोना इफेक्ट: तिहाड़ से कैदियों की रिहाई संभव, सुप्रीम कोर्ट के आदेश का इंतजार!

न्यायमूर्ति धर्माधिकारी को 15 मार्च 2004 को अतिरिक्त न्यायाधीश नियुक्त किया गया और वह 12 मार्च 2006 को स्थायी न्यायाधीश बनाए गए.

प्रधान न्यायाधीश एसए बोबडे के अलावा पांच न्यायाधीशों वाले कॉलेजियम में न्यायमूर्ति एन वी रमण, जस्टिस अरुण मिश्रा, न्यायमूर्ति आर एफ नरीमन और न्यायमूर्ति आर भानुमति शामिल हैं.