नई दिल्ली: जस्टिस जे. चेलमेश्वर की सेवानिवृति के दो दिन बाद उच्चतम न्यायालय ने न्यायाधीशों को मामलों के आवंटन के लिए रविवार को एक नया रोस्टर अधिसूचित किया. यह रोस्टर दो जुलाई से प्रभावी होगा. ग्रीष्मकालीन अवकाश के बाद न्यायालय का नियमित कामकाज दो जुलाई से शुरू होगा. बीते एक फरवरी को अधिसूचित पिछले रोस्टर की तरह नए रोस्टर में कहा गया है कि प्रधान न्यायाधीश (सीजेआई) दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ सभी जनहित याचिकाओं, सामाजिक न्याय, चुनाव, बंदी प्रत्यक्षीकरण और अदालत की अवमानना से जुड़ी याचिकाओं पर सुनवाई करेगी. Also Read - दिल्ली-एनसीआर में रहने वालों के लिए एकीकृत व्यवस्था हो: सुप्रीम कोर्ट

गत एक फरवरी को तब पहली बार रोस्टर को सार्वजनिक किया गया था, जब न्यायमूर्ति चेलमेश्वर, गोगोई, एमबी लोकुर और कुरियन जोसेफ ने 12 जनवरी को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर उनसे कनिष्ठ न्यायाधीशों को संवेदनशील जनहित याचिकाएं और अन्य अहम मामले दिए जाने पर सवाल उठाए थे. Also Read - देश का नाम भारत करने से सुप्रीम कोर्ट का इनकार, CJI बोले- ये हम नहीं कर सकते

22 जून को न्यायमूर्ति चेलमेश्वर की सेवानिवृति के बाद सीजेआई के बाद सबसे वरिष्ठ न्यायाधीश हो चुके न्यायमूर्ति रंजन गोगोई श्रम कानूनों, अप्रत्यक्ष करों, पर्सनल लॉ और कंपनी कानून से जुड़े मामलों की सुनवाई करेंगे. अधिसूचना में उन मामलों की सूची है, जिनकी सुनवाई प्रधान न्यायाधीश और 10 अन्य न्यायाधीशों – गोगोई, लोकुर, जोसेफ, एके सीकरी, एसए बोबडे, एनवी रमण, अरुण मिश्रा, एके गोयल , आरएफ नरीमन और एएम सप्रे की पीठों द्वारा की जानी है. Also Read - 'इंडिया' शब्‍द हटाकर 'भारत' या 'हिंदुस्तान' करने की पिटीशन पर SC में 2 जून को सुनवाई

सीजेआई की बेंच
न्यायमूर्ति लोकुर की अध्यक्षता वाली पीठ को सेवा, सामाजिक न्याय , पर्सनल लॉ , भूमि अधिग्रहण , खदान एवं खनिज , उपभोक्ता संरक्षण और सशस्त्र एवं अर्धसैनिक बलों से जुड़े मामलों की सुनवाई की जिम्मेदारी दी गई है. वह पारिस्थितिकीय असंतुलन , वन संरक्षण , वन्यजीव संरक्षण , पेड़ों की कटाई और भूजल स्तर से जुड़े मामलों की भी सुनवाई करेंगे.

जस्टिस जोसेफ की पीठ
न्यायमूर्ति जोसेफ की पीठ को श्रम कानूनों, किराया कानून , पारिवारिक कानून , अदालत की अवमानना और पर्सनल लॉ के मामले दिए गए हैं. वह धार्मिक एवं परमार्थ दान के अलावा सभी भूमि कानूनों एवं कृषि काश्तकारियों के मामलों की भी सुनवाई करेंगे.

न्यायमूर्ति सीकरी की पीठ
सुप्रीम कोर्ट के पांच सदस्यीय कोलेजियम के नए सदस्य न्यायमूर्ति सीकरी की पीठ प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष करों, चुनाव एवं आपराधिक मामलों, पर्सनल लॉ , अदालत की अवमानना , सामान्य दीवानी मामलों और विधि अधिकारियों की नियुक्ति के मामलों की सुनवाई करेगी. इन पांच शीर्ष न्यायाधीशों के अलावा नए रोस्टर में पीठ की अध्यक्षता करने वाले छह अन्य न्यायाधीशों द्वारा सुने जाने वाले मामलों की भी सूची है. (इनपुट- एजेंसी)