नई दिल्ली: उच्चतम न्यायालय ने गुजरात राज्य से राज्यसभा सीट के लिये अहमद पटेल के निर्वाचन को उच्च न्यायालय में चुनौती देने वाली याचिका की सुनवाई पर रोक के लिये कांग्रेस के इस वरिष्ठ नेता की याचिका पर भाजपा नेता बलवंसिंह राजपूत को नोटिस जारी किया. गौरतलब है कि भाजपा नेता बलवंत सिंह राज्यसभा चुनाव में अहमद पटेल से हार गए थे जिसके बाद उन्होंने अहमद पटेल के निर्वाचन को चुनौती देते हुए हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की थी. वहीँ पटेल ने बलवंसिंह की इस याचिका को ख़ारिज करने की मांग की है. Also Read - छात्रों बड़ी राहत: AICTE ने एमसीए कोर्स की अवधि तीन साल से घटाकर किया दो साल, यहां जानें पूरी डिटेल 

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ की खंडपीठ ने इसके साथ ही गुजरात उच्च न्यायालय को भाजपा नेता की याचिका पर विचारणीय मुद्दे तैयार करने की अनुमति भी दे दी है. भाजपा नेता राजपूत गत वर्ष राज्यसभा सीट के लिए संपन्न हुए चुनाव में पटेल से हार गए थे. साथ ही सुप्रीम कोर्ट की पीठ ने स्पष्ट कर दिया कि इसके बाद उच्च न्यायालय इस मामले में आगे कार्यवाही नहीं करेगा. Also Read - उत्तराखंड के मंत्री ने चीनी राष्ट्रपति को रामायण भेजी, कहा- रावण भी ऐसी ही सोच का था, पढ़कर सबक लें

इसी के साथ पीठ ने पटेल की याचिका को चार सप्ताह बाद सूचीबद्ध करने का आदेश दिया है साथ ही दोनों पक्षों को निर्देशित किया गया कि, इस दौरान वे इस मामले में अपने जवाब और इसके प्रत्युत्तर दाखिल करें. अहमद पटेल ने अपनी याचिका में कहा है कि भाजपा नेता राजपूत की चुनाव याचिका विचार योग्य नहीं है और इसे खारिज किया जाना चाहिए. चुनाव के नतीजे घोषित होने के तुरंत बाद राजपूत ने उच्च न्यायालय में दो विद्रोही विधायकों के मत अवैध घोषित करने के निर्वाचन आयोग के फैसले को चुनौती देते हुये यह याचिका दायर की थी. (इनपुट एजेंसी) Also Read - 'आने वाले दस साल में चेन्नई सुपर किंग्स टीम के बॉस होंगे महेंद्र सिंह धोनी'