सुप्रीम कोर्ट ने अनुराग ठाकुर को बीसीसीआई के अध्यक्ष पद से हटा दिया है। इतना ही नहीं सुप्रीम कोर्ट ने अजय शिर्के को भी सचिव के पद से हटा दियाहै।

इस फैसले के बाद अनुराग ठाकुर बीसीसीआई के अध्यक्ष पद पर नहीं रहेगे। उन्हें निर्देशित किया गया था कि वे लोढ़ा कमेटी की सिफारिश लागू करें लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया जिसके बाद उन्हें सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर अमल न करना इतना भारी पड़ गया कि उन्हें अध्यक्ष पद से हाथ धोने पड़े।

लोढ़ा कमेटी की सिफारिश न मानने पर अध्यक्ष अनुराग ठाकुर और सचिव अजय शिर्के को अपने पद से हाथ धोना पड़ा। यह भी पढ़ें: सर्वोच्च न्यायालय ने लोढ़ा समिति पर फैसला स्थगित किया

गौरतल है कि सर्वोच्च न्यायालय ने लोढ़ा समिति की सिफारिशों के खिलाफ भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) द्वारा दायर समीक्षा याचिका पर सुनवाई कुछ दिनों के लिए स्थगित कर दी थी।

बीसीसीआई ने अपनी समीक्षा याचिका में मामले की सुनवाई खुली अदालत में करवाए जाने की मांग की थी। गौरतलब है कि सर्वोच्च न्यायालय द्वारा क्रिकेट प्रशासन में सुधार के लिए गठित लोढ़ा समिति ने बड़े बदलाव की सिफारिशें की थी, जिन्हें लागू करने पर देश के मौजूदा क्रिकेट प्रशासन की सूरत बिल्कुल बदल सकती है।

लोढ़ा समिति ने अपनी सिफारिश में अध्यक्ष अनुराग ठाकुर सहित बीसीसीआई के मौजूदा शीर्ष अधिकारियों को हटाए जाने की बात भी कही थी।
सर्वोच्च न्यायालय ने 18 जुलाई को दिए अपने फैसले में लोढ़ा समिति की सभी सिफारिशों को मंजूरी दे दी थी और बीसीसीआई को उन्हें अपनाने का निर्देश दिया था। जिन्हें बीसीसीआई ने मानने से इनकार कर दिया था। जिसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने ये बड़ा फैसला लिया।